Sunday, Sep 26, 2021
-->
quad narendra modi joe biden china coronavirus sobhnt

QUAD देशों के बीच हुई पहली मीटिंग, चीन को सताने लगा डर

  • Updated on 3/13/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शुक्रवार को QUAD देशों के शीर्ष नेताओं का शिखर सम्मेलन हुआ है। इस शिखर सम्मेलन में पीएम नरेन्द्र मोदी (Narendra modi) के अलावा अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन (Joe biden) और ऑस्ट्रेलिया (Australia) और जापान (Japan) के प्रधानमंत्रियों ने भी भाग लिया। बता दें यह बैठक वर्चुअल थी। इस बैठक में कोरोना से लेकर जलवायु परिवर्तन तक के कई मुद्दों पर चर्चा हुई। इसके अलावा इन देशों ने हिंद प्रशांत महासागर में कैसे शांति बनाई जाए इस पर भी चर्चा की। इस बैठक के बाद से चीन के माथे पर चिंता की लकीर बन गई है। चीन इस बैठक को अपने खिलाफ रणनीति मान रहा है। 

अखिलेश यादव बोले- जब-जब साइकिल चली तो उत्तर प्रदेश में सरकार बदली

QUAD की बैठक में इन मुद्दों पर हुई चर्चा 
बता दें यह अमेरिका और भारत के लिए पहला मौका था। जब दोनों देशों के शीर्ष नेता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बिडेन एक साथ आमने-सामने आए। इसके अलावा इस बैठक में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा भी इस QUAD बैठक में शामिल हुए थे। जिसमें उन्होंने कई बार हिंद-प्रशांत महासागर की बड़ी शक्ति के रुप में भारत का नाम लिया था। इसके अलावा सम्मेलन में चारों नेताओं ने कोरोना की वैश्विक महामारी और  पर्यावरण को गंभीरता से चर्चा की।  

केजरीवाल ने भाजपा से पूछा- तिरंगा भारत में नहीं तो क्या पाकिस्तान में फहराया जायेगा

राष्ट्रपति बिडेन ने की भारत की तारीफ

बता दें अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बिडेन ने इस बैठक में भारत की तारीफ की । उन्होंने कहा कि वह भारत की बढ़ती ताकत से खुश है। वह कहते हैं कि क्वाॉड के देश कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने में एक-दूसरे क साथ देंगे। वह कहते हैं कि जापान और अमेरिका कोरोना वैक्सीन के निर्माण के लिए भारत को फंड देंगे। मूलरुप से क्वॉड का गठन इंडो-पैसिफिक रीजन के समुद्री रास्तों को मजबूत बनाने का प्लान किय था मगर बाद वह लोग सैनिक बेस को भी मजबूत बनाने का प्लान कर रहे हैं।    

औद्योगिक उत्पादन फिर हुआ नकारात्मक, 1.6 फीसदी की गिरावट  

QUAD को लेकर बड़ चीन की चिंता 
चीन को QUAD से डर है कि यह संगठन अमेरिका के नेतृत्व में उसके हितों को नुकसान पहुंचाने का काम कर रहा है। वह लंबे समय से क्वाॉड देशों के इस निर्णय का विरोध जताता हुआ आया है। उसे लगता है कि आने वाले समय में इस संगठन से उसके सामाजिक हितों को खतरा है। अभी तो क्वॉड की पहली बैठक हुई है और चीन बुरी तरह से बौखला गया है। उसे लगता है कि जल्द ही उसके खिलाफ कोई बड़ा कदम उठाया जाएगा। चीन की चिंता क्वॉड से दिनों दिन बढ़ती जा रही है। 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.