Sunday, Nov 28, 2021
-->
quarantine ladies become problem for muradabad police vbgunt

क्वारंटाइन सेंटर में महिलाओं ने मांगी बीयर, पुलिस के सामने कपड़े उतार कर बेहूदा डांस

  • Updated on 5/21/2020

नई दिल्ली टीम डिजिटल। मुंबई (mumbai) से लौटी महिलाएं यूपी की मुरादाबाद पुलिस (muradabad police) के लिए भारी सिरदर्द बन चुकी हैं। आरोप है कि ये महिलाएं मुंबई के किसी बीयर बार (beer bar) में काम करती थी। अब इन्हें क्वारंटाइन में बंद करना पुलिस के लिए भारी मुसीबत बन चुका है। कभी पूड़ी, कभी बिरयानी तो कभी बीयर की ऊट-पटांग मांग सामने आने पर पुलिस को कई बार अपना रवैया सख्त करना पड़ रहा है। बीयर नहीं मिलने पर महिलाओं का कपड़े उतार कर नाचने और हंगामा करने ने रखवालों को भी पसीने छुटा दिए हैं।

कांग्रेस की बसों को योगी सरकार ने बेरंग लौटाया, बेअसर रही प्रियंका की अपील

महिला ने तीन साल के बच्चे को बालकनी से उल्टा लटकाया
प्रत्यक्षदर्शियों ने दावा किया कि बीयर की मांग पूरी नहीं होने पर एक महिला ने अपने तीन साल के बच्चे को बालकनी से उल्टा लटका दिया और उसे गिरा कर मारने की धमकी देनी शुरु कर दी। वहीं कुछ अन्य महिलाओं ने कपड़े उतार कर डांस करना शुरु कर दिया। मुरादाबाद पुलिस के क्वारंटाइन में आदर्श कालोनी से लौटी महिलाओं को रखा गया है। 72 लोगों में से एक दर्जन बच्चे, 40 महिलाएं और 20 पुरुष हैं।

उमर अब्दुल्ला ने PM मोदी से लगाई गुहार, कहा- ईद से हम कुछ दिन दूर हैं...

20 की जांच में 5 निकले कोरोना पॉजिटिव
इन लोगों में से 20 का कोरोना टेस्ट करवाया गया है जिसमें से 5 की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली है। इसके बाद इन सभी को क्वारंटाइन किया  गया है। पुलिस ने बताया कि महिलाएं क्वारंटाइन जाने के लिए बिलकुल तैयार नहीं थी। AMIT तक महिलाओं को लाया गया तो उन्होंने एक ही दिन में पुलिस की नाक में दम कर के रख दिया है। महिलाओं की बीयर की मांग से पुलिस परेशान आ चुकी हैं।

गर्मी और उमस के बीच भी बढ़ता रहेगा कोरोना वायरस, नए शोध ने किया चौंकाने वाला दावा

15 महिलाओं को गर्ल्स हॉृृस्टल में शिफ्ट किया
खिरकार 15 नेगेटिव लोगों को गर्ल्स हॉस्टल में शिफ्ट किया गया है। कुछ वक्त पहले मेरठ के क्वारंटाइन सेंटर में टीवी और म्यूजिक सिस्टम की मांग ने पुलिस को काफी परेशान करे रखा। लोगों की जान बचाने में लगे पुलिस कर्मियों को उनकी फरमाइशों ने परेशान करके रख दिया है।

comments

.
.
.
.
.