Tuesday, Jan 18, 2022
-->
rahul targets bjp''''s ''''gujarat '''', said - government should give the death toll due to corona

राहुल का भाजपा के ‘गुजरात मॉडल’ पर निशाना, बोले-कोरोना से हुई मौत का आंकड़ा दे सरकार

  • Updated on 11/24/2021

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को भाजपा के ‘गुजरात मॉडल’ पर निशाना साधा और सरकार से कोरोना से हुई मौत के वास्तविक आंकड़े जारी करने की मांग की। उन्होंने कोरोना से मरने वालों के परिवार को चार लाख रुपये मुआवजा देने की भी मांग की है।

पीएम मोदी से मिलीं ममता बनर्जी, सुब्रमण्यम स्वामी से मुलाकात भी चर्चा में
राहुल ने ट्विटर पर एक वीडियो जारी किया, जिसमें गुजरात में कोविड के कारण मरने वाले कई लोगों के परिजनों का पक्ष रखा गया है। वीडियो में दावा किया गया है कि गुजरात में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण करीब तीन लाख लोगों की मौत हुई। राहुल गांधी ने इस वीडियो के जरिए भाजपा सरकार के ‘गुजरात मॉडल’ पर सवाल खड़े किए और पूछा कि आखिर यह किस प्रकार की सरकार है? कांग्रेस नेता ने कहा कि हमने जिन परिवारों से बात की है, उनका कहना है कि कोविड के दौरान उन्हें अस्पताल में न बेड मिला, न ऑक्सीजन और न ही वेंटिलेटर। उन्होंने सवाल किया कि जब लोगों की मदद करनी थी तब सरकार नहीं थी। जब उनको सहायता राशि की जरूरत है तो भी आप नहीं हैं। यह किस प्रकार की सरकार है?

अखिलेश से मिलने के बाद AAP के संजय सिंह बोले- यूपी को BJP की तानाशाही से मुक्त कराना है 
कांग्रेस नेता ने दावा किया कि गुजरात की सरकार कहती है कि कोविड के कारण 10 हजार लोगों की मौत हुई। लेकिन कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने घर-घर जाकर पता किया तो कोविड से गुजरात में करीब तीन लाख लोगों की मौत होने की बात सामने आई है। राहुल ने कहा कि ‘गुजरात मॉडल’ वाले गुजरात में सिर्फ 10 हजार लोगों के परिवार को 50-50 हजार रुपये दिए जा रहे हैं, जबकि तीन लाख मृतकों के परिवारों को ज्यादा पैसा मिलना चाहिए। उन्होंने प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके पास अपने लिए हवाई जहाज खरीदने को 8500 करोड़ रुपये हैं, लेकिन कोविड से जिन लोगों की मौत हुई, उनके परिवारों के लिए कोई पैसा नहीं है। राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि कोविड के समय कुछ उद्योगपतियों को पैसे दिए गए। उनके कर माफ किए गए। लेकिन गरीब जनता को कोविड का मुआवजा नहीं दिया जा रहा है। 

comments

.
.
.
.
.