Monday, Aug 15, 2022
-->
rail-roko-movement-affected-more-than-150-places-71-trains-were-disrupted-passengers-upset

रेल रोको आंदोलन का 150 से अधिक जगह पर रहा असर, 71 रेलगाडिय़ां हुईं बाधित, यात्री हुए परेशान 

  • Updated on 10/18/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। किसानों के रेल रोको आंदोलन से आज हरियाणा, दिल्ली, पंजाब, उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में रेल यातायात करीबन छह घंटे तक ठप रहा। उत्तर रेलवे में 150 से अधिक स्थानों पर असर पड़ा और 71 रेलगाडिय़ों की आवाजाही बाधित हुई और करीबन 30 रेलगाडिय़ों को आंशिक तौर पर रद्द किया गया। बाधित होने वाली रेलगाडिय़ों में नई दिल्ली से कटरा जाने वाली वंदे भारत चिहेरू में, ऊना जनशताब्दी पानीपत में, नई दिल्ली अमृतसर शताब्दी, हरिद्वार जनशताब्दी भी अलग-अलग स्टेशनों पर रोकी गईं। 
       प्रदर्शन के कारण उत्तर पश्चिम रेलवे (एनडब्ल्यूआर) के राजस्थान और हरियाणा के कई शहरों में रेल यातायात बुरी तरह से प्रभावित रहा। बहादुरगढऱ, रेवाड़ी आदि में किसान पटरी पर बैठे हुए थे। बताया कि करीबन 18 रेलगाड़ी रद्द कर दी गईं जबकि 13 को आंशिक रूप से रद्द किया गया और एक ट्रेन का मार्ग परिर्वितत किया गया। राजस्थान में प्रदर्शन से बीकानेर मंडल के हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर में रेल आवाजाही बाधित रही। एनडब्ल्यूआर के एक प्रवक्ता ने बताया कि भिवानी-रेवाड़ी, सिरसा-रेवाड़ी, लोहारू-हिसार, सूरतगढ़-बङ्क्षठडा, सिरसा-बङ्क्षठडा, हनुमानगढ़-बङ्क्षठडा, रोहतक-भिवानी, रेवाड़ी-सादुलपुर, हिसार-बङ्क्षठडा, हनुमानगढ़-सादुलपुर और श्रीगंगानगर-रेवाड़ी क्षेत्र में रेल यातायात प्रदर्शन के कारण बाधित रहा।      उन्होंने बताया कि बङ्क्षठडा-रेवाड़ी विशेष ट्रेन और सिरसा-लुधियाना विशेष ट्रेन सोमवार को भी बाधित रहेंगी। अहमदाबाद-श्री माता वैष्णो देवी कटरा विशेष ट्रेन का मार्ग भी परिर्वितत कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि अहमदाबाद से शनिवार को रवाना हुई ट्रेन रेवाड़ी-दिल्ली-पठानकोट होते हुए अलग मार्ग से श्री माता वैष्णो देवी कटरा जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि उत्तर रेलवे के पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, यूपी के इलाके सबसे ज्यादा प्रभावित रहे। 
        चंडीगढ़ फिरोजपुर एक्सप्रेस लुधियाना से रवाना होनी थी लेकिन फिरोजपुर-लुधियाना के बीच यह खड़ी रही। इसी तरह नई दिल्ली-अमृतसर शताब्दी एक्सप्रेस शम्बू स्टेशन के पास रोक दी गई क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने साहनेवाल और राजपुरा के समीप रेल की पटरियां अवरुद्ध कर दी थीं। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार ने बताया कि पूरे दिन में 150 स्थानों पर प्रदर्शन का असर पड़ा है और 71 ट्रेनों का संचालन बाधित हुआ है। इस आंदोलन से यात्रियों को भारी परेशानी जरूर हुई। कई यात्रियों ने बताया कि उन्हें आगे जिन साधनों से जाना था वह नहीं जा सके जिससे भारी नुकसान व परेशानी हुई। हां, शाम चार बजे के बाद किसान पटरियों से, स्टेशनों से हटे तब जाकर देर शाम तक रेलगाडिय़ां पटरी पर लौटीं। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.