Friday, May 14, 2021
-->
rajasthan rape kota child rape sobhnt

राजस्थान: तीन बच्चियों के साथ बलात्कार के बाद कोर्ट ने दोषी को सुनाई उम्रकैद की सजा

  • Updated on 1/20/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  राजस्थान के कोटा में 3 साल पहले 5 से 9 साल की तीन बच्चियों के रेप हुआ था। जिसने पूरे जिले को हिला कर रख दिया था। अब इस मामले में कोटा की एक जिला कोर्ट ने कार्यवाही करते हुए आरोपी को सजा सुनाई है। बता दें कोर्ट ने आरोप को बाल यौन संरक्षण कानून और एससी/एसटी कानून के तहत कार्यवाही की है। कोर्ट ने इस मामले में आरोपी को दोषी पाया है। बता दें दोषी की उम्र 27 वर्ष है। 

पड़ोसियों का सहारा बना है भारत, बांग्लादेश सहित 6 देशों को देगा Vaccine

दोषी को सुनाई सजा
कोर्ट ने इस मामले में कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा है कि ऐसे मामले में दोषी के साथ नरमी नहीं बरती जानी चाहिए। उन्होंने दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि ऐसे लोग कानून और कोर्ट को मजाक समझते हैं। यह लोग पूरी न्यायपालिका और लोगों की भावनाओं से खेलते हैं। 

ममता के नंदीग्राम से चुनाव लड़ने के क्या हैं मायने, चार प्वाइंट्स में समझें

आजीवन कारावास की सजा सुनाई
बता दें इस मामले में विशेष न्यायधीश हनुमान प्रसाद ने कहा है कि ऐसे लोगों पर बेवजह नरमी नहीं बरती जानी चाहिए। उन्होंने दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। ताकि लोगों के बीच एक डर पैदा किया जा सके। बता दें यह 2017 में केस दर्ज किया गया था। केस लड़की की मां की तरफ से दर्ज किया गया था। पुलिस ने लड़की की मां के कहने के बाद मामले में कार्यवाही करते हुए  पुलिस ने उसके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था।  

Farmers Protest: 10वें दौर की वार्ता के लिए दोनों पक्ष तैयार, बैठक में हो सकती तनातनी

3 बच्चियों के साथ हुआ रेप
बता दें तीन साल पहले खबर सामने आई थी कि एक गांव में 5 से 9 साल की लोगों की तीन बच्चियों के साथ बलात्कार हुआ था। पुलिस ने इस मामले में एक व्यक्ति के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था। जिसके बाद यह केस कोर्ट तक पहुंचा कोर्ट ने  दोषी के खिलाफ मामले को सही पाया है।   

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.