Wednesday, Jan 20, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 19

Last Updated: Tue Jan 19 2021 10:42 PM

corona virus

Total Cases

10,596,107

Recovered

10,244,677

Deaths

152,743

  • INDIA10,596,107
  • MAHARASTRA1,994,977
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA931,997
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU831,866
  • NEW DELHI632,821
  • UTTAR PRADESH597,238
  • WEST BENGAL565,661
  • ODISHA333,444
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN314,920
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH293,501
  • TELANGANA290,008
  • HARYANA266,309
  • BIHAR258,739
  • GUJARAT252,559
  • MADHYA PRADESH247,436
  • ASSAM216,831
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB170,605
  • JAMMU & KASHMIR122,651
  • UTTARAKHAND94,803
  • HIMACHAL PRADESH56,943
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM5,338
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,983
  • MIZORAM4,322
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,374
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
Rajasthan Sheena case Police sobhnt

शीना का परिवार ने राजस्थान पुलिस के सामने सडक पर की शीना से हाथापाई: शबनम हाशमी

  • Updated on 11/25/2020

नई दिल्ली(अनामिका सिंह): किसी भी लडकी के लिए उसका परिवार काफी अहम होता है क्योंकि अपने परिवार से वो जहां जीवन जीने के साधन प्राप्त करती है, वहीं ऊर्जा, संबल और हौसला भी पाती है। लेकिन जब यही परिवार उसके हौसले को तोडने लगे तो वो पूरी तरह टूट जाती है। ऐसा ही कुछ शीना के साथ भी हुआ। उसके परिवार के रूढिवादी विचार आज उसके दर्द का कारण बन गए हैं। उसकी गलती सिर्फ इतनी कि वो जिस परिवार से आती है, वहां लडकी का पढना और स्वच्छंद विचार रखना ठीक नहीं समझा जाता है। 

अनहद नाम से चलाती हैं एनजीओ
समाजसेविका शबनम हाशमी जोकि ‘अनहद’ नाम से एनजीओ भी चलाती है और सामाजिक मुद्दों को लेकर काफी एक्टिव हैं उन्होंनें  ‘नवोदय टाइम्स’ से बातचीत के दौरान बताया कि शीना राजस्थान के जगतपुर से ताल्लुक रखने वाली लडकी है, उसका परिवार बहुत रूढिवादी विचारधारा का है। शीना चैधरी ने दिल्ली के मिरांडा काॅलेज से स्नातक किया व दिल्ली स्कूल ऑफ सोशल वर्क से परास्नातक करने के दौरान वो उनसे संपर्क में आई।

दिल्ली हाई कोर्ट ने यातायात चालान को लेकर उठाए सवाल, बताया खराब सिस्टम 

वर्तमान में वो राजस्थान के धौलपुर में रहकर आईआईएम बंग्लौर से एमजीएन फेलो कर रही थीं और साथ ही जाॅब भी। दीवाली पर परिवार ने उसकी शादी एक लडके के साथ पक्की कर दी थी, जब वो घर गई तो उसे जबरदस्ती लडके के घर ले गए। उसने धौलपुर वापस आकर लडके को फोन कर शादी के लिए मना करने को कहा लेकिन लडके ने अपने परिवार को बताया और लडके के परिवार ने शीना के परिजनों को इसकी जानकारी दे दी। जिसके बाद उसे फोन पर धमकाया जाने लगा और 20 नवंबर की सुबह परिजनों ने फोन पर कहा कि बहुत हुई पढाई और नौकरी हो चुकी अब शादी करो, हम लेने आ रहे हैं। हाशमी ने बताया कि शीना को ऑनर कीलिंग का डर सता रहा था जो वहां के लोगों के लिए आम बात है। 20 नवंबर की सुबह शीना धौलपुर से निकल पडी।

केजरीवाल ने विशेषज्ञों से कोविड-19 से हुई मौत के आंकड़ों की समीक्षा करने को कहा

उसने अनहद के अन्य साथियों को फोन कर घटना की जानकारी दी और बताया कि वो अनहद के मुख्यालय जोकि जामिया नगर में है वहां पहुंच रही है। उसने कहा कि मैं अपना फोन बंद कर रही हूं। शीना शाम साढे 7 बजे के लगभग 20 नवंबर को दिल्ली में अनहद के कार्यालय पहुुंची। उन्होंने कहा कि मेरा ऑर्गनाइजेशन वूमेंस के लिए काम नहीं करता इसलिए मैंने एनी राजा से बात की, शीना ने एनी राजा को पत्र देकर सिक्योरिटी की मांग की। अगले दिन यानि 21 नवंबर को मैं और एनी राजा, शीना को लेकर डीसीपी पार्लियामेंट स्ट्रीट से मिले और वहां शीना ने अपनी आपबीती पत्र में लिखकर दी और सुरक्षा की मांग दिल्ली पुलिस से की। 23 नवंबर को हमलोग दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल से मिले जहां शीना ने अपनी बात रखी और उसकी सुरक्षा को लेकर वकीलों से बात की जा रही थी कि तभी पता चला कि उसके परिवार ने धौलपुर जाकर किसी अज्ञात द्वारा उसे भगाकर ले जाने का केस दर्ज कर दिया।

खाने निकले थे पर राजस्थान पुलिस ने जबरन शीना को धर लिया
हाशमी ने बताया कि  24 नवंबर को लंच के समय जामिया नगर स्थित ऑफिस से 7-8 लडके-लडकियां व शीना कुछ खाने के लिए निकले थे और वो ऑफर की तरफ थीं। तभी उनके पास फोन आया कि राजस्थान पुलिस आई है और शीना को पकडकर ले गई है। हमने लोकल पुलिस से संपर्क किया क्योंकि राजस्थान पुलिस उनके संपर्क से ही जामिया नगर पहुंची थी। एसएचओ जामिया नगर ने हमारे सामने राजस्थान पुलिस को फोन कर वापस आने के लिए कहा। एसएचओ ने कहा कि आप लोकल थाने के संपर्क से गए हैं तो पहले लडकी को यहां थाने में लाएं लेकिन उन्होंने सुना ही नहीं। 

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामले देख CM केजरीवाल ने बढ़ाए 2000 सामान्य और 1300 ICU बेड

हाथापाई व तमाशा करके ले गई राजस्थान पुलिस
शबनम हाशमी ने बताया कि राजस्थान पुलिस हाथापाई व तमाशा करके ले गई। लडकी बालिग है लेकिन उससे कुछ भी नहीं पूछा गया। लडकी के परिजन भी पुलिस के साथ थे, जिनकी गाडी की फोटो शीना के साथ खाना-खाने आए बच्चों ने खींच ली थी। यही नहीं शीना के चाचा ने सडक पर उसके साथ हाथापाई की, जिसकी जानकारी प्रत्यक्षदर्शियों ने हमें दी और बताया कि एक महिला भी उनके साथ थीं।

अभी सुरक्षित है शीना, मेरी बात हुई है
हाशमी ने कहा कि हंगामा ज्यादा होने के बाद राजस्थान पुलिस भी अपना काम अब सही तरीके से कर रही है। हमारी बात शीना से हुई उसने बताया कि वो पुलिस कस्टडी में है और अभी पूरी तरह सुरक्षित है लेकिन वो अब राजस्थान में नहीं रहना चाहती है। बुधवार को धौलपुर पुलिस ने कोर्ट में शीना को पेश कर 164 सीआरपीसी के तहत बयान दर्ज करवा दिया है और उसे राजस्थान पुलिस गुरूवार की सुबह दिल्ली के लिए लेकर आएगी और डीसीडब्ल्यू के सुपुर्द करेगी।
 
ईमेल से मिली थी कंपलेन, हम सुरक्षा की कर रहे थे तैयारियां: स्वाति मालीवाल
दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्लयू)  की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा कि शीना ने मुलाकात कर अपनी परेशानियां बताईं थीं और मेल के जरिए शिकायत भी दर्ज करवाई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए हम हाईकोर्ट के द्वारा सुरक्षा की तैयारियां कर रहे थे, जिसके लिए वकील ने भी तैयारियां शुरू कर दी थीं। लेकिन अचानक राजस्थान पुलिस जामिया नगर से शीना को उठाकर ले गई, जिसके बाद हमने धौलपुर के सुपरिटेंडेंट आॅफ पुलिस (एसपी) को पत्र लिखा था ताकि उसे जल्द से जल्द सुरक्षा मुहैया करवाई जा सके। जिसके बाद एसपी हमारे संपर्क में हैं और बुधवार सुबह भी उनसे बात हुई और पुलिस ने शीना से भी मेरी बात करवाई। मजिस्ट्रेट के सामने भी वो अपना बयान दे चुकी है। ये शीना खुद तय करेगी कि उसे कहां जाना है।

राजस्थान पुलिस को शीना को लेकर नहीं जाना चाहिए था
स्वाति ने कहा कि राजस्थान पुलिस को जबरन शीना को लेकर नहीं जाना चाहिए था क्योंकि लडकी लगातार बोल रही थी कि वो धौलपुर जाएगी तो उसकी जान को खतरा है। अब हमारी लडाई शीना को सुरक्षित दिल्ली तक लाने की है। वो 26 साल की एक समझदार लडकी है वो कहां और किसके साथ रहना चाहती है यह उसका मौलिक अधिकार है। दुःख होता है कि एक आईआईएम की पढी लडकी पर इस तरीके का परिवार दबाव बना रहा है ये ठीक नहीं है।

comments

.
.
.
.
.