Friday, May 14, 2021
-->
republic day bhartiya kisan union jogindar singh protest  sobhnt

BKU नेता जोगिंदर सिंह का बड़ा बयान, 26 जनवरी की हिंसा को बताया पूर्वनियोजित

  • Updated on 2/22/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। 26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा को लेकर एक किसान नेता ने बड़ा बयान दिया है। किसान नेता ने आरोप लगाया है कि गणतंत्र दिवस (Republic day) वाले दिन लाल किले पर हुई हिंसा पूर्वनियोजित थी। बता दें किसानों के नेता और भारतीय किसान यूनियन (उग्रहन) के सदस्य जोगिंदर सिंह उग्रहान ने यह बड़ी बात कही है। उन्होंने आरोप लगाया है कि उस दिन जो हुआ वह अचानक नहीं था। ये एक साजिश थी जिसके पहले से बनाया गया था। वह कहते हैं कि साजिशकर्ता एक अलग राह पर थे। और उनके मंसूबे भी अलग थे।  

पश्चिम बंगाल : ममता सरकार ने की पेट्रोल, डीजल पर टैक्स में कमी 

धार्मिक रंग देने की हुई कोशिश
उग्रहान ने कहा है कि 26 जनवरी को जो कुछ हुआ वह सब पूर्वनियोजित था। वह कहते हैं कि जिस रुट पर चर्चा नहीं हुई थी। उस पर वह नहीं जाना चाहते थे। मगर उसके बाद भी कुछ लोग वहां गए। वह कहते हैं कि इस प्रदर्शन को धार्मिक रंग देने की कोशिश की गई। लेकिन इसमें वह नाकामयाब रहे थे। वह पूरे मामले पर जोगिंदर सिंह का कहना था कि उन्हें यह पता था कि लड़ाई कैसे भी जाती है मगर इसका वो रास्ता नहीं है। जिसे स्थापित करने की कोशिश की जा रही थी।  

अभिषेक बनर्जी के घर सीबीआई, कोयला चोरी मामले में उनकी पत्नी, साली को नोटिस  

पुलिस ने झूठे मुकदमें दर्ज किए
इसके अलावा जोगिंदर सिंह ने यह भी आरोप लगाया है कि 26 जनवरी की आड़ में पुलिस ने किसानों के खिलाफ झूठे मुकदमें भी दर्ज किए हैं। वह अपने यूनियन लीडर बलबीर सिंह राजेवाल का जिक्र करते हुए कहते हैं कि उनके ऊपर डकैती का मुकदमा दर्ज किया गया है। बड़े ही गुस्साए अंदाज में जोगिंदर सिंह ने ऐलान किया है कि वह पुलिस के नोटिसों को जलाकर फेंक दे और पुलिस को गांव में घुसने नहीं दे। इसके अलावा वह लोगों से दिल्ली आने की अपील करते हुए आंदोलन में बढ़-चढ़ कर दान करने की बात भी कहते हैं।  

केरल में हिंदू युवतियों के इस्लाम में धर्मांतरण पर रिपोर्ट मंगाएंगे केरल के गवर्नर  

पीएम ने किसानों का अपमान किया
किसान नेताओं ने प्रधानमंत्री पर आरोप लगाया है कि उन्होंने किसानों को आंदोलनजीवी कहकर उनका अपमान किया है। वह कहते हैं कि कि अगर हम परजीवी हैं तो बीजेपी नेताओं को किसानों के उगाए अनाज को नहीं खाना चाहिए और जो अनाज प्रधानमंत्री उगा रहे हैं उस अनाज को खाना चाहिए। किसानों ने कहा कि जो कंपनियां हमारी जमीन पर नजर गड़ाए बैठी हैं। उनका विरोध करना हमारा अधिकार है।  

 

 

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.