Thursday, Apr 02, 2020
ring-the-bell-if-notice-any-misbehave-in-metro

DMRC की नई पेशकश, मैट्रो में अश्लीलता दिखे तो ‘घंटी-बजाओ’

  • Updated on 2/18/2020

नई दिल्ली, (महेश केजरीवाल/टीम डिजिटल)। मेट्रो (metro) में भी ऐसे तत्व बढ़ते जा रहे हैं, जो सार्वजनिक रूप से अश्लीलता (vulgarity) फैलाने से बाज नहीं आते। उन्हें देखकर संभ्रांत और शरीफ घर के लोग या अपने बच्चों के साथ सफर कर रहे लोगों को उनकी हरकतें देखकर खुद ही शर्मिंदा होना पड़ रहा है। इसका दुष्परिणाम यह हो रहा है कि मेट्रो में सफर करने के दौरान युवतियों-महिलाओं को भी गाहे-बगाहे छेड़छाड़ (molesting) का शिकार होना पड़ता है। कुछ मामले पुलिस तक पहुंच जाते हैं, और कुछ में महिलाएं संकोच के कारण खामोश रहती हैं।

वजह चाहे कितनी भी वाजिब क्यों न हो, सड़क ब्लॉक नहीं कर सकते: SC

युवती ने दिखाई हिम्मत तो पकड़ा गया गंदी हरकतें करने वाला इंजीनियर
ऐसा ही एक मामला पिछले दिनों सामने आया है। चलती मेट्रो में यात्रा के दौरान एक व्यक्ति ने एक युवती के सामने अश्लील हरकतें करनी शुरू कर दीं। गंदी हरकतें करते हुए उस व्यक्ति का फोटो युवती ने अपने मोबाइल में कैद कर लिया। फोटो सार्वजनिक हुआ तो मेट्रो की भी आंख खुली। मामला पुलिस तक पहुंच गया है। उस व्यक्ति को भी दबोच लिया गया है। यदि युवती ने ऐसा नहीं किया होता तो संभव था कि वह पकड़ में नहीं आता। उस सजग युवती ने उस फोटो को जब अपने ट्विटर पर डाला तो मामला उजागर हुआ। ऐसे तमाम मामले होते रहते हैं, जिनमें न केवल महिलाओं, बाकी यात्रियों और मेट्रो को भी सजग होने की जरूरत है, ताकि ऐसी गंदी हरकतें न हो पाएं।

शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से बात करने को SC ने नियुक्त किए वार्ताकार

कोच में लगे सीसीटीवी फुटेज को कम से कम 24 घंटे सेफ रखा जाता है
हालांकि मेट्रो के हर कोच में CCTV लगे होते हैं, लेकिन बहुत कम मामलों में ही कार्रवाई हो पाती है। इस मामले में मेट्रो की सुरक्षा में लगी CISF के अनुसार DMRC 24 घंटे में मेट्रो कोच के CCTV फुटेज को हटा देती है, जबकि DMRC प्रवक्ता का कहना है कि CCTV फुटेज को 8 से 10 घंटे से लेकर करीब 15 दिनों तक सुरक्षित रखा जाता है। 

CAA: शाहीन बाग प्रदर्शन दूसरों पर विचार थोपने का प्रयास- केरल के राज्यपाल

क्या करें, जब आपके साथ ऐसी हरकत हो?
दिल्ली-एनसीआर की लाइफलाइन मेट्रो में यात्रा के दौरान अगर आपको देखकर कोई शख्स आपत्तिजनक हरकतें करता दिखे, या कोई किसी को छेड़ता हुआ नजर आए तो कोच में दरवाजे के पास ही लगे ‘रेड-पेनिक बटन’ को दबाकर अपनी बात मेट्रो ऑपरेटर तक तत्काल पहुंचा सकते हैं। डीएमआरसी प्रवक्ता अनुज दयाल ने कहा कि ऐसी स्थिति में कोच में लगे इमरजेंसी बटन दबाकर भी ट्रेन ऑपरेटर को सूचित कर सकते हैं।

अमित शाह से शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों की मुलाकात पर गृह मंत्रालय असमंजस में

मेट्रो में महिलाओं के लिए सुविधाएं

  •        प्रत्येक मेट्रो में महिलाओं के लिए आरक्षित कोच
  •        अन्य कोच में महिलाओं के लिए आरक्षित सीटें
  •        मेट्रो में महिला कोच में यात्रा करने पर पुरुष यात्रियों पर 250/-रुपए का जुर्माना
  •        स्टेशनों, प्लेटफार्मों और मेट्रो के कोच सीसीटीवी की निगरानी में
  •        महिला सुरक्षा कमांडो, महिला मित्र
  •        सीआईएसएफ हेल्पलाइन नं. 155655
  •        डीएमआरसी हेल्पलाइन नं.155370

पीड़ित युवतीं के साथ छेड़छाड़ करने वाला गुडग़ांव में कार्यरत सिविल इंजीनियर अभिलाष कुमार (28) था। उसको DMRC सिक्युरिटी सेल और एएफसी टीम ने पकड़ा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.