Friday, May 14, 2021
-->
safarnama 2020 yearender 2020 narendra modi farmer protest year big issue  sobhnt

सफरनामा 2020: 5 बड़े मुद्दे जिन पर इस साल घिरती दिखी मोदी सरकार

  • Updated on 12/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। धीरे-धीरे साल 2020 भी खत्म होने जा रहा है। ऐेसे में अब समय आ गया है कि याद किया जाए कि इस साल केंद्र की मोदी सरकार के लिए कौन कौन से बड़े मुद्दे सिर दर्द बन गए कहां-कहां पार्टी को विपक्ष का जोरदार विरोध झेलना पड़ा। हम अपने सफरनामे में उन सभी मुद्दों को एक बार फिर से आपको याद दिलाना चाहते हैं। जिनकी वजह से केंद्र सरकार को देशभर में काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी।  

RJD ने दिया नीतीश कुमार को ऑफर, बोले- हमें बनाओं CM, हम आपको बनाएंगे PM

शाहीन बाग में हुआ बड़ा प्रदर्शन
साल 2020 की शुरुआत में ही सरकार को नागरिकता कानून (CAA) को लेकर दिल्ली के शाहीनबाग में एक बड़ा विरोध प्रदर्शन झेलना पड़ा था। हजारों की संख्या में केंद्र की मोदी सरकार के नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हजारों लोग सड़कों पर आ गए। यह सभी लोग केंद्र सरकार ने सीएए कानून को वापस लेने की मांग कर रहे थे। इस दौरान कई जगह हिंसक झड़पें भी देखने को मिली थी। 

सफरनामा 2020: धारा 370 को लेकर नजरबंद हुए नेताओं ने अपनी रिहाई के बाद दिए ये बड़े बयान

दिल्ली में हुए दंगे
बता दें इसके बाद फरबरी माह आते-आते ही दिल्ली (delhi riots) को भयानक भीषण दंगे देखने को मिले थे। जिसमें लोगों ने केंद्र की मोदी सरकार और दिल्ली पुलिस के संप्रदायिक हिंसा भड़काने का आरोप लगाया था। इस दौरान सभी विपक्षी पार्टियों ने  संसद में भी केंद्र सरकार को दिल्ली दंगों के लिए घेरा था। इस दौरान कई दिनों तक संसद भी स्थगित की गई थी। 

कोरोना वायरस ने ली एंट्री
इन सबके बीच देश में मार्च महीने में कोरोना वायरस (Coronavirus) ने एट्री ली। शुरुआत में तो केंद्र सरकार पर लोगों ने अपना विश्वास दिखाया मगर जैसे जैसे देश में कोरोना बढ़ा। लोगों ने केंद्र सरकार से सवाल पूछने शुरु कर दिए। इसके अलावा कोरोना के समय केंद्र की तरफ से पीएम केयर फंड (PM Cares Fund) बनाकर चंदा इक्ट्ठा किया गया। इसको लेकर भी विपक्ष ने केंद्र पर काफी हमले किए थे। विपक्ष का आरोप था कि सरकार कोरोना का फायदा उठाकर आम लोगों से पैसे छीन रही है। 

2021 जनवरी में बैंकों को मिलेंगी लंबी छुट्टियां, 14 दिन तक नहीं होगा काम, कर लें अभी तैयारी 

अर्थव्यवस्था हुई खस्ता
कोरोना की वजह से लम्बे समय तक चले लॉकडाउन के बाद देश की अर्थव्यवस्था (Economy) बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुई थी। शुरुआत में आंकड़े आए थे कि भारत की जीडीपी में -23 फीसद तक की गिरावट दर्ज की गई थी। सरकार के इस तरह  लापरवाह होने के लिए विपक्ष समेत सोशल मीडिया पर भारी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। इस दौरान बड़ी संख्या में लोगों को अपने रोजगार से हाथ धोना पड़ा। इस दौरान बड़ी संख्या में लोगों को नौकरियों से भी निकाला गया था।   
किसान आंदोलन: पंजाब में 1500 से ज्यादा तोड़े गए मोबाइल टावर, CM बोले- होगी सख्त कार्रवाई

किसानों ने किया बड़ा आंदोलन
इस साल के अंत आते-आते केंद्र सरकार को अपने कार्यकाल का सबसे बड़ा किसान प्रदर्शन (Farmer Protest) भी देखने को मिला है। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानून को विरोध करने करते हुए पंजाब  और हरियाणा के लाखों  किसान सड़क पर आ गए है। दिल्ली की सभी सीमाओं पर इन किसानों ने प्रदर्शन के माध्यम से बंद किया हुआ है। सरकार और प्रधानमंत्री खुद अब इन्हें समझाने की कोशिश कर रहे हैं मगर अभी तक इसका कोई परिणाम नहीं निकला है।  

 

ये भी पढ़ें...

 

comments

.
.
.
.
.