Monday, May 23, 2022
-->
sidhu-reached-to-meet-rahul-gandhi-trying-to-end-punjab-congress-controversy

राहुल गांधी से मिलने पहुंचे सिद्धू, पंजाब कांग्रेस का विवाद सुलझाने की कोशिश

  • Updated on 10/15/2021

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने पद से इस्तीफा देने के बाद शुक्रवार को पहली बार पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की। इस दौरान पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत भी मौजूद रहे। माना जा रहा है कि सिद्धू का पक्ष सुनने के बाद पार्टी समुचित समाधान का रास्ता निकालने का प्रयास कर रही है। एक दिन पहले ही वीरवार को सिद्धू ने कांग्रेस के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल और हरीश रावत के साथ करीब एक घंटे की बैठक की थी।

गलवान से जुड़े वीडियो पर जवाब दे सरकार, चीन को युद्ध अपराध के लिए जिम्मेदार ठहराया जाएः कांग्रेस

सूत्र राहुल गांधी से मुलाकात के बाद सिद्धू के इस्तीफे से जुड़े गतिरोध को खत्म होने की उम्मीद जता रहे हैं। पूरी संभावना यह है कि पार्टी आलाकमान सिद्धू को कुछ समाझाइशों-हिदायतों और कुछ उनकी बातें मान कर मसले का सर्वमान्य समाधान निकाले और उनका इस्तीफा अस्वीकार कर दे। हालांकि अभी तक सिद्धू और राहुल गांधी के बीच हुई बातचीत का कोई ब्योरा नहीं निकल सका है। इस्तीफे की घोषणा के बाद सिद्धू ने पहली बार कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की है। इसके पहले वीरवार को 24 अकबर रोड, कांग्रेस मुख्यालय पर वेणुगोपाल के कक्ष में रावत की मौजूदगी में करीब सवा घंटे तक चली बैठक में पंजाब सरकार और संगठन से जुड़े मुद्दों पर सिद्धू से चर्चा हुई थी। वेणुगोपाल और रावत की कोशिश भी एक सर्वमान्य सहमति बनाने के प्रयास के तौर पर रहा, ताकि चुनाव से पहले पूरी पार्टी एकजुट होकर मैदान में उतर सके।

शिवसेना नेता राउत ने पूछा - RSS प्रमुख देश में नशे की समस्या के लिए किसे ठहराएंगे जिम्मेदार?

सूत्रों ने बताया कि फिलहाल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नेतृत्व में बदलाव के आसार कम हैं क्योंकि विधानसभा चुनाव में कुछ महीने का समय रह गया है। ऐसे में कांग्रेस आलाकमान सिद्धू के इस्तीफे को लेकर उनके और पार्टी दोनों के लिहाज से कोई सम्मानजनक फैसला कर सकता है। माना जा रहा है कि बहुत जल्द निर्णय हो सकता है। बैठक के बाद सिद्धू ने कहा था कि मैंने पंजाब और पंजाबियों से जुड़ी ङ्क्षचताओं से पार्टी आलाकमान को अवगत कराया है। मुझे कांग्रेस अध्यक्ष, राहुल गांधी जी और प्रियंका गांधी जी में पूरा विश्वास है। वो जो भी फैसला करेंगे, वो कांग्रेस और पंजाब के हित में होगा। मैं उनके निर्देशों का पालन करूंगा।

हरियाणा के सिंघु बॉर्डर प्रदर्शन स्थल पर शख्स की हत्या, संयुक्त किसान मोर्चा ने अपना रुख किया साफ

उल्लेखनीय है कि सिद्धू ने 28 सितम्बर को कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में सिद्धू ने कहा था कि वह पार्टी की सेवा करना जारी रखेंगे लेकिन पंजाब के भविष्य और पंजाब के कल्याण के एजेंडे को लेकर कोई समझौता नहीं कर सकते। कांग्रेस आलाकमान ने अब तक सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है।

comments

.
.
.
.
.