विमान में शख्स ने लिखा दोस्त के लिए ये मैसेज, फ्लाइट 1 घंटे हुई लेट साथ ही मचा हड़कंप

  • Updated on 11/26/2018

​​​​​नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोलकाता के एयरपोर्ट पर एक अजीब प्रकार का मामला सामने आया। जिसके चलते जेट एयरवेज के विमान को उड़ान भरने में एक घंटे की देरी हुई। हालांकि सुरक्षा बलों ने ऐसी हरकत करने वाले शख्स को हिरासत में ले लिया है। यह सब मामला महज एक फोन के द्वारा भेजे गए मैसेज की वजह से हुआ है। 

दरअसल कोलकाता से मुंबई के लिए रवाना होने वाली जेट एयरवेज की फ्लाइट 9W 472 का निर्धारित समय सुबह 8.35 बजे है। हालांकि हंगामें के चलते फ्लाइट ने उड़ान भरने में करीब 1 घंटे की देरी कर दी थी। इसके बाद प्लाइट को सुरक्षित मुंबई के लिए रवाना कर दिया गया। 

जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में सुरक्षाबल और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, तीन आतंकी ढेर

मुंबई जाने वाले यात्रियों में से एक शख्स ने विमान में बैठने के बाद अपने मित्र को मैसेज भेजा था। जिसमें उसने लिखा था कि वह जिस विमान में बैठा है उसमें आतंकी सवार है। उसके मैसेज को पास में बैठे यात्री ने इस मैसेज को पढ़ लिया। जिसकी जानकारी क्रू को बुलाकर दी। क्रू ने इस बात की जानकारी पायलट को दी। 

 

 

#ConstitutionDay: 2015 से मनाया जा रहा है 'संविधान दिवस', हाथ से लिखा गया था संविधान

जिसके बाद पायलट ने प्लेन को वापस पार्किंग में पहुंचा दिया। मामला प्लेन के टेक ऑफ करने से कुछ ही देर पहले का था। सुरक्षाकर्मियों द्वारा उस व्यक्ति को फोरन हिरासत में ले लिया गया। जिसके बाद उससे पूछताछ की। हालांकि अभी इस मामले में कोई भी बात खुलकर सामने नहीं आ पायी है। पु्लिस मामले की जांच में जुटी हुई है।\

#2611Attack मां-बाप की लाश के बीच खड़े नन्हे मोशे की ये है दर्दनाक कहानी

गौरतलब है कि आज मुंबई हमले की दसवीं बरसी है, जिसके चलते सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किए गए हैं। 26/11/2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले में करीब 165 लोगों की जान गई थी। साथ ही भारतीय सेना ने जवाबी कार्यवाही करते हुए 9 आतंकियों को ढेर कर दिया था। इस हमले ने देश को झकझोर कर रख दिया था। हालांकि इसके मुख्य आरोपी कसाब को जिंदा पकड़कर फांसी पर टांग दिया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.