Tuesday, Oct 04, 2022
-->
traders-uniting-against-government-policies-white-paper-will-issued-in-the-nationwide-convention

सरकारी नीतियों के खिलाफ एकजुट हो रहे व्यापारी, मंगलवार को राष्ट्रव्यापी अधिवेशन में जारी होगा श्वेत

  • Updated on 8/7/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। खाद्यान्न पर जीएसटी, जीएसटी की विसंगतियों और छोटे-बड़े व्यापारियों के साथ सरकार के भेदभाव व सरकारी तानाशाही को लेकर अब देश भर के व्यापारी एकजुट होकर शंखनाद करेंगे। भारतीय उद्योग व्यापार मण्डल के राष्ट्रीय चेयरमैन बाबूलाल गुप्ता ने बताया कि आजादी के 75वें अमृत महोत्सव पर मंगलवार को कॉन्स्टीट्यूश्न क्लब ये व्यापारी जुटेंगे और भविष्य में संघर्ष की रूपरेखा तय करेंगे।  
       व्यापार मंडल के राष्ट्रीय वरिष्ठ महामंत्री मुकुन्द मिश्रा ने कहा कि मंगलवार को ही 41वां राष्ट्रीय व्यापारी दिवस अधिवेशन आयेाजित होगा और इसमें 26 प्रांतों के करीब 2000 डेलीगेट्स शामिल होंगे। इसमें देश के सात करोड़ व्यापारियों के प्रतिनिधि जिसमें 13 हजार दाल मिलों, 9600 चावल
मिलों, 8 हजार आटा  मिलों तथा 60 हजार आटा चक्कियां तथा छोटे स्टील उद्योग, केमिकल उद्योग, इलेक्ट्रोनिक उद्योग, घड़ी निर्माता, खेती के काम आने
वाले सबमर्सिबल पम्प निर्माता, गारमेन्ट्स उद्योग, जूते निर्माता, फर्नीचर निर्माता से लेकर सूरज के हीरे व्यापारी भी शामिल होंगे। 
         मंडल के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय प्रकाश जैन ने कहा कि व्यापारी नीति, नियम पर चलते हैं लेकिन उनके लिए बनने वाली नीतियों में उनकी रायशुमारी तक नहीं हो रही है फिर चाहें वह जीएसटी, आयकर, खाद्य सुरक्षा कोई भी कानून हो। गेहूं, आटा, दाल, चावल, गुड़ आदि पर लगाये गये जीएसटी वापिस लेने की मांग रखते हुए दिल्ली के हेमंत गुप्ता, राकेश यादव और प्रदीप गुप्ता ने कहा कि व्यापारी आजादी का जश्न धूमधाम से मनाएंगे तो वहीं सरकारी नीतियों पर आईना दिखाने से भी पीछे नहीं हटेंगे और सरकार को हमारी बात जनता के हित में माननी ही होगी। राष्ट्रव्यापी अधिवेशन में व्यापारी श्वेत पत्र जारी करेंगे। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.