Saturday, Apr 17, 2021
-->
uttarpradesh crime cyber crime yogi adityanath sobhnt

लखनऊ में छात्राओं के नंबर को गलत ग्रुप में डाला, जिसके बाद मनचले कर रहे थे परेशान

  • Updated on 1/21/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तरप्रदेश (Uttar pradesh) के लखनऊ से एक शातिर युवक ने एक इंटर कॉलेज की छात्राओं के वाट्सग्रुप को हैक कर लिया है। जिसके बाद इस शातिर इंसान ने छात्राओं के नंबर को एक डर्टी ग्रुप में डाल दिया। जिसके बाद  छात्राओं पर अश्लील फोन आने लगे थे। इन छात्राओं के पिता ने इस मामले की पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। 

मोदी सरकार के प्रस्ताव पर गंभीरता से विचार कर फैसला लेंगे किसान नेता, अगली बैठक 22 को 

वाट्सग्रुप को हैक किया 
बता दें आरोपी का नाम सौरभ सिंह है जिसने लखनऊ के एक विद्यालय की छात्राओं का वाट्सएप ग्रुप हैक कर लिया था। जिसके बाद  उसने छात्राओं के नंबर एक डर्टी ग्रुप मे डाल दिए। बता दें इस ग्रुप में 18-19 छात्राएं जुड़ी हुई थी। आरोपी के नंबर डालन के बाद सभी छात्राओं के पास अश्लील फोन आने लगे। जिससे वह परेशान हो गई।  इन छात्राओं में से एक के पिता ने उसके बाद पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। जिसके बाद इंस्पेक्टर गौतमपल्ली ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। 

मोदी सरकार के प्रस्ताव पर गंभीरता से विचार कर फैसला लेंगे किसान नेता, अगली बैठक 22 को

मामला साइबर टीम को सौपा गया
बता दें घटना की पूरी जांच के लिए मामले को साइबर टीम को सौपा गया था। साइबर टीम ने पत लगाया तो उन्हें जानकारी मिली की सौरभ ने छात्राओं के वाट्सऐप ग्रुप को हैक करके उनके नंबर एक दूसरे ग्रुप मे डाले थे। ऐसा करके वह छात्राओं को परेशान किया करता था। वह स्कूल खुलने के बाद छात्राओं के गेट पर आकर खड़ा हो जाता था। वह वहां से उन पर छींटाकशी करता  और फिर उनका पीछा करते हुए उन्हें छेड़ता था। पुलिस ने इस मामले में अब आरोपी की शिकायत दर्ज कर ली है।  

वकील इंदिरा जयसिंह ने हाई कोर्ट से कहा- अमानवीय है वरवर राव की हिरासत में हालत 

पुलिस ने किया गिरफ्तार

बता दें आरोपी का नाम सौरभ सिंह है। आरोपी पवनपुरी तेलीबाग के देवीखेड़ा का रहने वाला है। आरोपी की लड़कियों के नंबर को अन्य ग्रुप में डालकर उनके साथ बत्तमीजी करता था। कई बार छात्राओं ने आरोपी को चेतावनी दी थी। मगर वह उल्टा छात्राओं को ही धमकाने लग गया। उसके बाद छात्राओं ने अपने पिता से शिकायत की। इस पूरी घटना के बाद जब पिता पुलिस के पास गए। पुलिस ने आरोपी तक पहुंचने के लिए साइबर टीम का सहारा लिया था। साइबर टीम ने आरोपी की लोकेशन को ट्रैश किया था। जिसके बाद उसे पकड़ा गया। 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.