Wednesday, Jan 19, 2022
-->
uttarpradesh hathras gangrape yogi adityanath bjp caa act sobhnt

हाथरस मामले में सरकार का आरोप, दंगे के लिए बनाई बेवसाइट, पूरे प्रदेश को अशांत करने की साजिश

  • Updated on 10/5/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) के हाथरस में गैंगरेप (Hathras Gangrape) के बाद सरकार और विपक्ष आमने सामने है। एक तरफ सरकार दावा कर रही है कि वह पीड़िता को न्याय दिलाने की पूरी कोशिश कर रही है वहीं दूसरी तरह उसका आरोप है कि विपक्ष इस मामले को तूल देकर सरकार के खिलाफ साजिश कर रहा है। सरकार ने दावा किया है कि जिस तरह सीएए एक्ट (CAA Act) विरोध में पूरे देश में हिंसा की गई उसी तरह इस मामले में भी प्रदेश में वैसी ही स्थिति पैदा करना चाहते हैं। 

राजस्थान के DGP बोले- रेप केस बन गया है नया ट्रेंड, पीड़ित को नहीं मिलता न्याय

बेवसाइट से भड़काया जा रहा था
सरकार ने दावा किया है कि हाथरस की घटना के बाद अचानक कई ऐसी बेवसाइटें सामने आई थी। जो जातीय तौर पर लोगों को भड़काना चाहती थी। इन्ही में से एक जस्टिस फॉर हाथरस नाम की एक बेवसाइट थी। जो बाद में बंद कर दी गई। सरकार का दावा है कि यहां बताया जा रहा है कि किस तरह दंगा भड़काना है और बाद में कैसे वहां से बच निकलना है। 

हाथरस केस: कंगना का समर्थन करने वाले अब क्यों हैं चुप: संजय राउत

सरकार की छवि खराब करना लक्ष्य
बताया गया  बेवसाइट का मुख्य लक्ष्य सीएम, पीएम और सरकार की छवि खराब करना था। इसमें  बकायदा बताया गया था कि प्रदर्शन के वक्त क्या पहनें, कब किधर भागें और सोशल मीडिया पर कोई रिकॉडिंग न ड़ाले। वहां यह भी बताया गया है कि मास्क पहनकर पुलिस के सामने प्रदर्शन करें ताकि पहचाना न जा सके। 

सरकार को शक है कि पीएफआई और एसडीपीआई जैसे संगठन इसके पीछे फंडिंग कर सकते हैं। जिसका पता लगाने की कोशिश की जा रही है। 

 

यहां पढ़ें अन्य महत्वपूर्ण खबरें-

comments

.
.
.
.
.