Wednesday, Apr 14, 2021
-->
uttarpradesh nhrc prayagraj private hospital sobhnt

पैसे न देने पर निजी अस्पताल ने बिना पेट में टांका लगाए 3 साल की बच्ची को किया बाहर, हुई मौत

  • Updated on 3/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) के प्रयागराज से एक प्राइवेट हॉस्पीटल से अमानवीयता का मामला सामने आया है। यहां इलाज के दौरान पैसे की कमी के कारण भुगतान नहीं करने पर तीन साल की बच्ची समेत पूरे परिवार को आधा इलाज किए ही बाहर कर दिया है। बच्ची के पिता ने पैसे देने में असक्षमता जताई तो बड़े निजी अस्पताल ने बिना टांका लगाए ही बच्ची को बाहर कर दिया। जिसके बाद उसकी मौत हो गई। परिवार वालों का आरोप है कि पेट में टांका नहीं लगाने के कारण अन्य अस्पतालों ने इलाज करने से मना कर दिया जिससे उनकी बच्ची नहीं बच पाई।   

मिथुन दा शामिल होंगे BJP में! पीएम मोदी की मौजूदगी में ले सकते है सदस्यता

बिना टांका लगाए बच्ची को निकाला बाहर 
घटना प्रयागराज के करेली इलाके की है। ब्रहमदीन मिश्रा की 3 साल की बच्ची का निजी अस्पताल में एक ऑपरेशन हुआ था। जिसके बाद उनकी बच्ची को एक बार फिर से ऑपरेशन के बुलाया गया। बच्ची के पिता से पहले 1.50 रुपए ले लिए गए थे और बाद में उनसे 5 लाख की और मांग की गई। जब बच्ची के पिता ने 5 लाख देने में असक्षता दिखाई तो अस्पताल ने उसका इलाज बीच में ही रोक दिया और बच्ची के पिता सहित पूरे परिवार को अस्पताल से बाहर कर दिया गया।  

Muthoot Group: मुथूट ग्रुप के चेयरमैन एमजी जॉर्ज मुथूट का निधन, ये है मौत का कारण

अन्य अस्पताल ने इलाज से किया मना
जिस समय बच्ची को अस्पताल से बाहर किया गया। उस समय उसके पेट में टांके लगने थे। आरोप है कि अस्पताल ने बच्ची को बिना टांके लगाए ही बाहर कर दिया। उसके बाद लड़की के पिता बच्ची को लेकर कई अलग-अलग अस्पताल गए मगर किसी ने भी उसकी इस हालत को देखते हुए इलाज करने की हां नहीं की। सभी ने बच्ची की हालत को क्रिटिकल बताते हुए इलाज करने से मना कर दिया। जिसके कुछ दिनों बाद बच्ची की मौत हो गई।  

सुप्रीम कोर्ट ने कहा डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कार्रवाई का प्रावधान नहीं, इस मामले में थी सुनवाई

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल 
बच्ची के पिता ने सोशल मीडिया पर वीडियो डालकर अपने लिए न्याय की मांग की थी। उनकी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। लोग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पुलिस ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग कर रहे थे। वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासन की तरफ से जिलाधिकारी भानु गोस्वामी ने मामले का संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने कहा है कि मामले का संज्ञान लेकर कार्यवाही की जाएगी।  

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.