Sunday, Jan 26, 2020
warning of telangana minister who will commit a brutal crime like rape will have an encounter

Hyderabad encounter: तेलंगाना के मंत्री की चेतावनी, दरिंदगी करने वालों का होगा एनकाउंटर

  • Updated on 12/8/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हैदराबाद (Hyderabad) में महिला पशु चिकित्सक से गैंगरेप (gangrape) के बाद हत्या करने के सभी आरोपियों को तेलंगाना पुलिस (Telangana Police) ने एनकाउंटर (encounter) में ढेर कर दिया था। इस मामले पर पूरे देश से मिली जुली प्रतिक्रिया आ रही है, लेकिन इस मामले को लेकर अब एक नया मोड़ आ गया है। तेलंगाना के राज्य पशुपालन मंत्री तलसानी श्रीनिवास यादव (Talasani Srinivas Yadav) ने इसे सही माना है।

हैदराबाद गैंगरेप- मर्डर केस: दरिंदगी से एनकाउंटर तक, जानें पूरी कहानी

एनकाउंटर अपराधियों के लिए है संदेश
उन्होंने कहा कि जो कोई भी इस तरह के क्रूर व दर्दनाक अपराधों को अंजाम देता है उसके अंदर इस एनकाउंटर को लेकर डर रहेगा। उन्होंने अपराधियों के लिए इसे एक संदेश बताया है।

#HyderabadEncounter: उसी जगह ढेर हुए चारों आरोपी जहां की थी दिशा से दरिंदगी

जो क्रूर और अमानवीय अपराध करेगा उसका एनकाउंटर होगा-श्रीनिवास यादव
उन्होंने कहा कि गलत इरादे से किए गए किसी भी अपराध को करने के बाद आप किसी भी अदालती मुकदमे या जेल की सजा के बाद मिली जमानत का गलत फायदा नहीं उठा सकेंगे, क्योंकि अब इस तरह के अपराध बर्दाश्त नहीं किये जाएंगे। उन्होंने कहा, इस एनकाउंटर के जरिए हम संदेश देना चाहते हैं, कि जो कोई भी क्रूर और अमानवीय अपराध करेगा उसका एनकाउंटर होगा। 

न्याय कभी भी जल्दबाजी में नहीं किया जाना चाहिए- एसए बोबडे
हैदराबाद एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एसए बोबडे (SA Bobde) ने कहा था, 'बदले की भावना से किया गया न्याय कभी इंसाफ नहीं हो सकता। न्याय बदले की भावना से नहीं होना चाहिए। मेरा मानना है कि न्याय जैसे ही बदला बनेगा, वह अपना स्वरूप छोड़ देगा।' उन्होंने कहा, 'मैं नहीं समझता हूं कि न्याय कभी भी जल्दबाजी में नहीं किया जाना चाहिए। मैं समझता हूं कि अगर न्याय बदले की भावना से किया जाए तो ये अपना मूल स्वरूप खो देता है'। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.