Wednesday, Oct 27, 2021
-->
we-talk-about-malabar-hills-in-books-don-t-talk-about-genocide-sahasrabuddhe

हम किताबों में मालाबार हिल्स के बारे में बताते हैं , नरसंहार के बारे में बात नहीं करतें : सहस्त्रबुद

  • Updated on 9/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। विभाजन की तरफ ले जाने वाली जो मानसिकता है भारत की स्वाधीनता पूर्व राजनीति को उस मानसिकता की गंगोत्री शायद मलबार के हिल्स में है। इसलिए हम जब विभाजन की विभाषिका को याद करेंगे तो हमें मलबार के शहीदों को भी याद करना चाहिए। क्योंकि नरसंहार में जो मारे गए, उनका कोई कसूर नहीं था, सभी निर्दोष थे। यह बाते यह बाते भाजपा राज्यसभा सांसद डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे ने मुख्यअतिथि के तौर पर चरखा म्यूजियम पार्क में 1921 मलबार हिन्दु नरसंहार के 100 पर आयोजित प्रदर्शनी और श्रद्धाजंलि समारोह में कहीं। साथ ही उन्होंने कहा कि हम इतिहास और भूगोल की किताबों में मुंबई स्थित मालाबार हिल्स के बारे में बताते हैं, लेकिन 100 साल पहले मलबार में हुए नरसंहार के बारे में बात नहीं करते हैं।

मैत्रेयी कॉलेज में नॉन-टीचिंग स्टॉफ हेतु कौशल संवर्धन कार्यक्रम

100 साल पहले के नरसंहार को हम दुनिया को बताकर रहेंगे: कपिल मिश्रा
भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने कहा कि कितनी शर्म की बात है कि 100 साल बीतने के बाद भी केरल की विधानसभा में बैठे स्पीकर इन हत्यारों को तुलना शहीद-ए-आजम भगत सिंह से करने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा 100 साल पहले के नरसंहार को हम दुनिया को बताकर रहेंगे। एडवोकेट मोनिका अरोड़ा ने अगस्त 1921 में 50 हजार से ज्यादा मुस्लमानों ने मस्जिद के बाहर इकठ्टे होकर ऐलान किया था कि ब्रिटिश को मार भगाएंगे। इस्लामिक राज्य की स्थापना करेंगे। उन्होंने कई जुलूस निकाले और नरसंहा किया, हिन्दूओं के घर लूटे गए, गर्भवती महिलाओं के गर्भ से बच्चे निकाल कर उन्हें भाले की नोक पर डालकर जूलूस निकाला गया। उन्होंने कहा कि अगर हमने 100 साल पहले यह प्रदर्शनी देखी होती तो हो सकता है कि भारत का विभाजन भी नहीं हुआ होता। कार्यक्रम में सांसद रमेश बिधूडी भी बतौर मुख्यअतिथि उपस्थित रहे। जबकि प्रज्ञा प्रवाह नेशनल कंवीनर जे.नंदकुमार विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित रहें।

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.