Sunday, Apr 18, 2021
-->
Whats app Security New policy Facebook Twitter sobhnt

लोगों के विरोध की वजह से Whats app ने लिया प्राइवेसी नीति को वापस लेने का फैसला

  • Updated on 1/16/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूरे देश में इस समय लोग व्हाट्सऐप की नई प्राइवेसी (privacy) नीति की आलोचना कर रहे हैं। जिसके बाद इस इंस्टेंट शेयरिंग ऐप ने सफाई दी है। कंपनी की तरफ से अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को कुछ समय के लिए रोक दिया। कंपनी ने अपनी डेडलाइन को फरबरी से बढ़ा दिया है। कंपनी की नई पॉलिसी में फेसबुक और इंस्टाग्राम के साथ ज्यादा ज्यादा का इंटीग्रेशन था। इसी बीच कंपनी ने कहा है कि वह अब नई पॉलिसी को लागू नहीं कर रहा है। वह लोगों के बीच से भ्रम की स्थिति को दूर करेगा। बता दें नई पॉलिसी के ऐलान के बाद यूजर्स सिग्नल और टेलीग्राम ऐसे एप्स की ओर शिफ्ट हो रहे थे।  

NCP नेता मुंडे के बाद एकनाथ खडसे की बढ़ी मुश्किलें, ईडी ने की मैराथन पूछताछ 
 

नई नीति को लेकर दी सफाई
वाट्सऐप ने अपने एक ब्लॉग में सफाई देते हुए कहा था कि हमारी नई पॉलिसी को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है। सुनने में आ रहा है कि फेसबुक से वाट्सऐप अब पहले से ज्यादा डेटा शेयर कर रहा है कि यह गलत है। वह कहते  हैं कि हम पहले जितना ही डेटा शेयर करने जा रहे हैं। मगर लोगों के बीच इस बात लेकर भ्रम पैदा हो रहा है। वह कहते हैं कि हम न तो किसी के मैसेज को देख सकते हैं नहीं किसी की वीडियो कॉल को देख सकते हैं। 

कोरोना के खिलाफ देश का टीकाकरण आज से होगा शुरु, पीएम करेंगे उद्घाटन

कहा नहीं किया कोई बदलाव
बता दें कि वाट्सऐप ने 4 जनवरी को निजता की नई नीति की घोषणा करते हुए कहा था कि जो कोई भी यूजर्स इस नई नीति को स्वीकार नहीं करेगा उसका अकाउंट 8 फरवरी के बाद बंद हो जाएगा। कंपनी की इस घोषणा के बाद लोगों ने वाट्सऐप से खुद को हटाना शुरु कर दिया। लोग उसका विकल्प ढूढ़ रहे थे। लोग इसके लिए टेलीग्राम और सिग्नल की तरफ शिफ्ट हो रहे थे।  

मप्र: हास्य कलाकार फारूकी की जमानत याचिका पर सुनवाई फिर आगे बढ़ी

भारी संख्या में लोग हुए शिफ्ट
लोगों का भारी संख्या में दूसरे प्लेटफार्म पर जाते देख वाट्सऐप ने यह निर्णय लिया है। कंपनी को अपने इस निर्णय के बाद भारी संख्या में नुकसान झेलना पड़ा था। कंपनी ने इसी को ध्यान रखते हुए यह निर्णय लिया है। कंपनी ने यह भी कहा है कि उसने किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया है। यह केवल भ्रम फैलाया जा रहा है। कंपनी ने इसके लिए अपनी प्रति प्रतिद्वंदी कंपनियों को ऐसा महौल बनाने का आरोप लगाया है। कंपनी ने एक बार फिर से अपनी नीति को अभी कुछ समय तक रोक दिया है। उसका कहना है कि बात आगे बढ़ने पर ही नया निर्णय लिया जाएगा। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.