Tuesday, Dec 06, 2022
-->
yashwant sinha joined tmc ahead of west bengal election sobhnt

बंगाल चुनावों से पहले पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने थामा TMC का हाथ, लड़ेंगे चुनाव

  • Updated on 3/13/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी (BJP) नेता यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) ने आगामी बंगाल चुनाव के बीच ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस को ज्वाइन कर लिया है। यशवंत सिन्हा इससे पहले बीजेपी की वाजपेयी सरकार में केंद्रीय वित्त मंत्री का पद संभाल चुके हैं। उन्होंने इसके अलावा 2018 में बीजेपी को छोड़ दिया था। उन्होंने मोदी सरकार पर तानाशाही करने के आरोप लगाए थे।   

पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरेगा विशालकाय एस्टेरॉयड, जानें कितना है खतरा

ममतो को मिला पुरस्कार
बता दें ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के लिए 83 साल के यशवंत सिन्हा के का आना एक दम पुरस्कार की तरह है। ममता की पार्टी को यशवंत सिन्हा ने उस समय ज्वाइन किया है जिस समय पिछले एक-दो महीने से लगातार कई बड़े नेताओं का उनकी पार्टी से लगातार जाना लगा हुआ है। बता दें ममता की पार्टी को आज दोपहर में टीएमसी के कई वरिष्ठ नेता के सामने सिन्हा ने ज्वाइन किया था। 

पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरेगा विशालकाय एस्टेरॉयड, जानें कितना है खतरा

वरिष्ठ नेता की मौजूदगी ेमें हुए शामिल
बता दें मिस्टर सिन्हा ने तृणमूल कांग्रेस की सदस्यता पार्टी के वरिष्ठ नेता डेरेक ओ ब्रायन, सुदीर बंधोपाध्याय और  सुब्रत मुखर्जी के सामने कोलकाता में एक कार्यक्रम के दौरान ली। बता दें यशवंत सिन्हा के पार्टी ज्वाइन करने के बाद मुखर्जी ने कहा कि हमें गर्व है कि यशवंत सिन्हा हमारे साथ जुड़ रहे हैं। 

गौरतलब हो कि यशवंत सिन्हा को पहली बार वित्त मंत्री का पद  प्रधानमंत्री चंद्रेशेखर की सरकार में मिला था। उन्होंने नवंबर 1990 से जून 1991 तक इस पद का जिम्मा संभाला था। इसके बाद दूसरी बार उन्हें प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री की जिम्मेदारी दी गई थी। जो कि 1998 से 2002 और फिर 2004 तक चला था। बता दें सिन्हा 1960 बैच के आईएएस अफसर हैं। जिन्होंने 1984 में राजनीति में कदम रखते हुए जनता पार्टी को ज्वाइन किया था। उसके बाद यह भाजपा से जुड़ गए थे।  

औद्योगिक उत्पादन फिर हुआ नकारात्मक, 1.6 फीसदी की गिरावट 

जयंत सिन्हा हैं भाजपा के सांसद
बता दें कि अभी इसके बेटे जयंत सिन्हा भाजपा के सदस्य हैं और झारखण्ड के हजारी बाग से सांसद है। इसके अलावा मोदी सरकार 2014-19 में जयंत सिन्हा को वित्तराज्य मंत्री का पद भी दिया था। जिसे 2019 आते-आते छीन लिया गया। अभी वह केवल सांसद है। 

यशवंत सिन्हा के लिए जब मुश्किल हो गई थी। जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में नए चेहरे आने के बाद पार्टी में सिन्हा जैसे पुराने चेहरों को साइडलाइन किया जा रहा था। जिसके बाद सिन्हा खुलेतौर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार की आलोचना भी करन लगे थे। 2018 आते-आते सिन्हा ने पार्टी को छोड़ने का निर्णय ले लिया और बीजेपी से अलग हो गए।  
 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 


 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.