Thursday, Aug 11, 2022
-->
Congressmen took to the streets to save the property of Gandhi family, not democracy

कांग्रेस के सत्याग्रह पर भाजपा ने किया पलटवार, बोला हमला

  • Updated on 6/13/2022

नई दिल्ली/ सुनील पाण्डेय : भारतीय जनता पार्टी ने नेशनल हेराल्ड मामले में ईडी के समक्ष कांग्रेस नेता राहुल गांधी की पेशी पर कांग्रेस पार्टी के विरोध प्रदर्शन पर आपत्ति जताई है। साथ ही आरोप लगाया कि यह विरोध प्रदर्शन वास्तव में गांधी परिवार की भ्रष्टाचार से अर्जित 2,000 करोड़ रुपए की संपत्ति को बचाने के लिए है।
  भाजपा की वरिष्ठ नेत्री एवं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी लोकतंत्र बचाने के लिए नहीं बल्कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और गांधी परिवार की भ्रष्टाचार से अर्जित 2,000 करोड़ रुपए की संपत्ति को बचाने के लिए सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि कोलकाता स्थित हवाला इंट्री आपरेटर डोटेक्स मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड के साथ राहुल गांधी, सोनिया गांधी एवं प्रियंका वाड्रा के संबंध रहे हैं। इस डोटेक्स मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड के ट्रांजेक्शन को इंटेलिजेंस यूनिट ने संदेहास्पद लेन-देने के लिए रेड फ्लैग की श्रेणी में रखा है।
   केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस पार्टी द्वारा आज देश में भ्रष्टाचार के पक्ष में कथित सत्याग्रह करने पर कटाक्ष किया। साथ ही कांग्रेस पार्टी से सवाल भी पूछे।  केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि आज जो लोग जांच एजेंसी पर दबाव डालना चाहते हैं, उन्हें दिल्ली हाईकोर्ट के 2019 के आदेश को याद दिलाना चाहती हूं जिस आदेश में कहा गया था कि कपटपूर्ण, गुप्त और आकर्षक लाभ के लिए यंग इंडियन कंपनी की परिसर में एजेएल के सभी शेयर यंग इंडियन लिमिटेड को ट्रांसफर किया गया। एजेएल के ऊपर राहुल गांधी और सोनिया गांधी का मालिकाना हक गैर कानूनी तौर पर एजेएल की संपत्ति पर अधिकार जमाने का प्रयास है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी के इशारे पर कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता आज दिल्ली में जो गतिरोध उत्पन्न किया है, वह लोकतंत्र बचाने के लिए नहीं बल्कि गांधी खानदान द्वारा भ्रष्टाचार से अर्जित 2,000 करोड़ रुपये की संपत्ति को बचाने का एक कुत्सित प्रयास है।
  स्मृति ईरानी ने कहा कि राहुल गांधी और सोनिया गांधी नेशनल हेराल्ड मामले में कोर्ट से बेल लेकर बाहर हैं। ईडी द्वारा पूछताछ करने पर कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को विरोध प्रदर्शन के लिए दिल्ली बुलाया गया। केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि जांच एजेंसी पर दबाव डालने के लिए कांग्रेस शासित राज्यों के वरिष्ठ नेताओं को विशेष रूप से दिल्ली बुलाया गया।
   केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि आम जनता और कांग्रेस के समर्थकों ने कांग्रेस पार्टी को चंदा दिए थे ताकि कांग्रेस पार्टी लोकतांत्रिक गतिविधियों में हिस्सा ले सके। कांग्रेस पार्टी के नेताओं, कार्यकर्ताओं एवं उन समर्थकों से सवाल है कि क्या उन चंदा देने वालों की मंशा थी कि उनका पैसा कांग्रेस पार्टी उस कंपनी को समर्पित कर दे जिसका मालिकाना हक गांधी खानदान के पास है? मालिकाना हक कोई भी सामाजिक कार्य के लिए नहीं है क्योंकि यंग इंडियन ने अपनी स्थापना के वक्त कंपनी एक्ट के सेक्शन 25 के तहत जो लाइसेंस लिया था उसके तहत कंपनी द्वारा सिर्फ चैरिटी करना था। लेकिन साल 2016 में यंग इंडियन लिमिटेड कंपनी ने इस बात को स्वीकार किया कि उन्होंने 6 वर्ष की अवधि में चैरिटी का एक भी काम नहीं किया है।
   केंद्रीय मंत्री ने दिल्ली में ईडी के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले कांग्रेस नेता एवं कार्यकर्ता राहुल गांधी से यह सवाल जरूर पूछें कि उनका और गांधी परिवार का संबंध डोटेक्स मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड के साथ क्या है? क्योंकि डोटेक्स मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड कोलकाता स्थित एक हवाला एंट्री आपरेटर है, जो कैश के बदले बैंक चेक का लेन-देन करती है। जांच एजेंसी ने इस कंपनी के ट्रांजेक्शन को संदिग्ध मानते हुए इसे रेड फ्लैग की श्रेणी में डाल रखा है।
 

comments

.
.
.
.
.