Tuesday, Dec 06, 2022
-->
in-the-mock-assembly-bjp-mlas-pointed-out-the-flaws-of-the-policies-of-the-delhi-government

मॉक विधानसभा में भाजपा विधायकों ने दिल्ली सरकार की नीतियों की खामियां गिनाईं

  • Updated on 8/27/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।विधानसभा में कई मुद्दों पर बोलने की अनुमति न मिलने पर भाजपा ने अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर शनिवार को मॉक विधानसभा में दिल्ली सरकार की नीतियों की खामियों पर जमकर अपनी बात रखी।  सत्ता पक्ष और विपक्ष के अलावा मीडिया एवं अन्य गणमान्य के लिए भी अलग अलग पंक्ति रखी गई थी। इस दौरान प्रदेश उपाध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा और प्रवक्ता विक्रम मित्तल विशेषतौर पर शामिल हुए।

विधानसभा की तर्ज पर ही तैयार किया था मॉक विधानसभा सदन

खासबात यह रही कि सत्तापक्ष की पहली पंक्ति में मंत्रिायों के मुखौटे पहने लोग बैठे हुए थे और वह विपक्ष के विधायकों के संबोधन के बीच-बीच में टोका टाकी भी कर रहे थे। जबकि विपक्ष के सदस्य मनीष सिसोदिया का इस्तीफा मांग रहे थे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की भूमिका भाजपा के कार्यकर्ता एवं विधायक विजेंद्र गुप्ता के पीएस गोल्डी ने निभाई। जबकि विधानसभा अध्यक्ष की भूमिका भाजपा नेत्री बरखा सिंह ने संभाली। 

ट्विटर पर सरकारी स्कूल को लेकर CM केजरीवाल और हिमंत विश्व शर्मा की ठनी
मॉक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने केजरीवाल सरकार की आबकारी व शिक्षा नीति पर निशाना साधा। बिधूड़ी ने मुख्यमंत्री के पुराने बयानों का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने दिल्ली के लोगों के साथ धोखा किया है। भाजपा विधायक इस बात से बेहद खफा नजर आए कि उन्हें गैर तरीके शुक्रवार को विधानसभा सदन से बाहर कर दिया गया। बिधूड़ी ने कहा कि नई शराब नीति में केजरीवाल सरकार ने मास्टर प्लान का खुला उल्लंघन किया। जबकि यह अधिकार दिल्ली सरकार को नहीं था। ड्राई डे की संख्या 21 से घटाकर 3 कर दी। ठेकों की संख्या 639 से बढ़ाकर 849 कर दी। 

भ्रष्टाचार का ट्विन टावरः बनाने में 7 साल... ढहाने में लगेंगे 9 सेकेंड 

उन्होंने बताया कि पुरानी शराब नीति के तहत सरकार को वषज़् 2021-22 में 9,500 करोड़ का राजस्व मिलना था, लेकिन यह घटकर 6,000 करोड़ (पुरानी शराब नीति) रुपए से भी नीचे आ गया। अनिल वाजपेयी ने दावा किया कि स्कूली कमरों के निर्माण में गड़बड़ी की बात रखी। विजेंद्र गुप्ता ने सीवीसी की 34 पेज की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए आरोप लगाया कि 207 स्कूलों में 2526 कमरे और 160 टायलेट बनने थे, लेकिन जब टेंडर निकाला गया तो वह 8089 कमरों का था। 160 टॉयलेट ब्लॉक बने। शिक्षा नीति पर बिधूड़ी ने आंकड़े देते हुए कहा कि वर्ष 2013-14 में सरकारी स्कूलों में 16.10 लाख ब'चे थे। आज यह संख्या घटकर करीब 15.10 लाख रह गई है। वर्ष 2013-14 में पब्लिक स्कूलों में 31 फीसदी ब'चे पढ़ते थे, अब यह हिस्सेदारी बढ़कर 40 फीसदी हो गई है। मॉक विधानसभा सत्र की शुरुआत नियम-280 से की गई। इसके तहत नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी, विजेंद्र गुप्ता, मोहन सिंह बिष्ट, ओपी शर्मा, अभय वर्मा, अनिल कुमार वाजपेयी, जितेंद्र महाजन, अजय महावर ने नई शराब नीति को लेकर केजरीवाल सरकार पर जबरदस्त हमला बोला। 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.