Friday, Jul 01, 2022
-->
inauguration-of-sonia-vihar-reservoir-by-delhi-govt-is-a-betrayal-of-people-ramveer-bidhuri

सोनिया विहार जलाशय का दिल्ली सरकार द्वारा उद्घाटन करना लोगों के साथ धोखा: रामवीर सिंह बिधूड़ी

  • Updated on 3/2/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सोनिया विहार में जलाशय के उद्घाटन को लेकर राजनीति गरमा गई है। दिल्ली सरकार ने जलाशय का उद्घाटन किया है। इस मामले में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने आरोप लगाया है कि दिल्ली सरकार ने जलाशय का उद्घाटन करके दिल्ली की जनता के साथ धोखा किया है। उन्होंने सीधेतौर पर कहा कि सोनिया विहार का जलाशय केंद्र सरकार ने बनवाया है। उन्होंने दावा किया कि इसमें सांसद मनोज तिवारी ने 80 करोड़ रुपये की लागत से पूरे प्रोजेक्ट का निर्माण कराया है। बिधूड़ी ने एलजी से अनुरोध किया है कि वह दिल्ली सरकार को आगाह करें कि सरकार इस तरह की धोखाधड़ी से बाज आए।

Russia Ukraine War: PM मोदी- मैकों ने संघर्षविराम की जरूरत पर सहमति जतायी
बिधूड़ी ने केजरीवाल सरकार पर चुनावी राजनीति के लिए सभी परंपराओं और प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि बुधवार को सोनिया विहार में 6 एमजीडी क्षमता वाले जिस भूमिगत जलाशय का उद्घाटन दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने किया है, वह केंद्र सरकार की योजना अमृत के तहत बनाया गया है। उन्होंने कहा कि स्थानीय सांसद मनोज तिवारी के फंड से तैयार हुए इस जलाशय के उद्घाटन कार्यक्रम में सांसद तिवारी और विधायक मोहन सिंह बिष्ट को सूचना तक नहीं दी गई।  

यूक्रेन संकट के बीच LIC के IPO को लेकर असमंजस में मोदी सरकार
उन्होंने कहा कि इस जलाशय के निर्माण का कार्य मार्च 2021 में पूरा हो गया था। 29 जुलाई 2021 को उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने अधिकारियों के साथ भूमिगत जलाशय का निरीक्षण किया था और एलजी को पत्र लिखकर प्रोटोकॉल के तहत लोकार्पण का अनुरोध किया था। बिधूड़ी ने कहा कि केजरीवाल बार-बार यह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि उनका संविधान से दूर-दूर तक कोई रिश्ता नहीं है और चुनावी राजनीति के लिए वह किसी भी कानून का उल्लंघन कर सकते हैं।  

सांसद तिवारी ने 80 करोड़ रुपए की योजना मंजूर कराई थी 

बिधूड़ी ने बताया कि भूमिगत जलाशय और यहां की कॉलोनियों को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए सांसद तिवारी ने 80 करोड़ रुपए की योजना मंजूर कराई थी। इसमें से करीब 36 करोड़ रुपए जलाशय पर और बाकी राशि कॉलोनियों को पानी उपलब्ध कराने पर खर्च की गई। उन्होंने कहा कि अब दिल्ली सरकार इसे अपनी योजना बताकर जनता को गुमराह कर रही है। उल्लेखनीय है कि सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन को लेकर भी दिल्ली सरकार और भाजपा आमने-सामने आ गई थी और जमकर एक-दूसरे के विरुद्ध राजनीतिक बयानबाजी भी हुई थी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.