Monday, Jun 27, 2022
-->
land-pooling-policy-has-got-7275-hectares-of-land-so-far-consortium-will-be-formed-now

लैंड पूलिंग पॉलिसी में अब तक मिली 7275 हेक्टेयर भूमि, कंसोर्टियम गठन होगा अब

  • Updated on 5/18/2022

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। लैंड पूलिंग पॉलिसी में 7275 हेक्टेयर भूमि हासिल होने के बाद अब डीडीए इस पॉलिसी को और तेजी से अंजाम तक पहुंचाने की प्रक्रिया में जुटता दिख रहा है। इसी कड़ी में तीन सेक्टरों में पॉलिसी को लागू करने लिए कंसोर्टियम के गठन को लेकर अंतरिम नोटिस जारी किया गया है। जोन एन में सेक्टर 10-ए और जोन पी-2 में सेक्टर 2, 3 इसमें शामिल हैं।

तीन सेक्टरों के लिए अंतरिम नोटिस डीडीए ने किया जारी 

साथ ही विशेष पोर्टल भी बनाया है जिसके जरिये भू-स्वामी अपने दस्तावेज अथवा आवेदन संबंधी जानकारी हासिल कर सकते हैं। योजना में जोन जे, के-1, एल, एन, पी-1 और पी-2 में आने वाले 104 गांव शामिल हैं। यह पूरा क्षेत्र 129 सेक्टरों में विभाजित है। दरअसल 2018 से अब तक लैंड पूलिंग पॉलिसी में लोगों का रुझान से अधिक डेवलपरों का विशेष लगाव ही उजागर होता दिखा है। ऐसे में लगातार प्रचार व प्रयास के बावजूद पॉलिसी में डीडीए को अधिक भूमि हासिल नहीं हो सकी। जिसके बाद इस पॉलिसी में एफएआर तक बढ़ाने पर स्वीकृति दी गई।

दिल्‍ली के उप राज्‍यपाल अनिल बैजल ने पद से दिया इस्‍तीफा

डीडीए अधिकारी के मुताबिक कंसोर्टियम के गठन के लिए अंतरिम नोटिस इस शर्त के साथ जारी किया गया है कि शेष अन-पूल्ड भू-स्वामियों  को एक साथ आना होगा और एक कार्यांवयन योजना के साथ एक इकाई के रूप में काम करना होगा।  जिसके लिए उन्हें 90 दिनों की अवधि मिलेगी। यदि  भू-स्वामी कंसोर्टियम बनाने में विफल रहते हैं या उस विशेष सेक्टर में 70 फीसदी शामिल पूल्ड भूमि प्राप्त करने में असमर्थ होते हैं, तो ऐसे नोटिस रद्द हो जाएगा। लैंड पूलिंग क्षेत्र में सभी सेक्टरों के लिए भू-स्वामियों नक्शे के विवरण डीडीए की वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट जीओवी डॉट इन / रेफरेंस-मैप्स पर देखे जा सकते हैं ।

इन सेक्टरों में कंसोर्टियम के लिए बनाई योजना 

-सेक्टर नक्शा  योजना के अनुसार उत्तरी दिल्ली में यमुना नदी के साथ स्थित जोन पी-2 में सेक्टर 2 उन सेक्टरों में से एक है जिनके लिए यह अंतरिम सूचना जारी की है। इस सेक्टर में लैंड पूलिंग पॉलिसी के अंतर्गत लगभग 140 हेक्टेयर विकास योग्य  भूमि शामिल है, जिनमें से 121 हेक्टेेयर भूमि वाले भू-स्वामियों ने हिस्सेदारी में रूचि दिखाई है और रिकॉर्ड सत्यापित किए गए।
-सेक्टर-3, जोन पी-2 सेक्टर 3 में लगभग 210 हेक्टेेयर विकाय योग्य भूमि शामिल है, जिसमें से 156 हेक्टेयर भूमि वाले भू-स्वामी विकास के लिए आगे आए हैं। इसमें भी पूल की गई भूमि शामिल नहीं है। गांव तिगीपुर (पार्ट), फतेहपुर जाट (पार्ट), मोहम्मदपुर (पार्ट), रमजानपुर (पार्ट), बख्तावरपुर (पार्ट) इस सेक्टर का निर्माण करते हैं, जिनमें से एक राजस्व  संपत्ति अर्थात् बख्ताावरपुर को मास्टर प्लान योजना-2021 के भाग के रूप में हल्के सघनता वाले आवासीय क्षेत्र के रूप में भी अधिसूचित किया है।
-जोन एन में सेक्टर 10-ए एक अन्य विचाराधीन सेक्टर है जो कि उत्तर-पश्चिम दिल्ली के बवाना क्षेत्र के नजदीक है। सेक्टर 10-ए में 124 हेक्टेयर क्षेत्र है जिसमें से 117 हेक्टेयर लैंड पॉलिसी के अंतर्गत विकसित करने योग्य है और 96 हेक्टेयर को पूल किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.