Monday, Jun 27, 2022
-->
rajasthan-karnataka-will-enhance-the-beauty-of-stone-in-the-construction-of-ram-temple

राम मंदिर के निर्माण में राजस्थान, तेलंगाना और कर्नाटक पत्थर बढ़ाएंगे शोभा, सितंबर तक प्लिंथ होगा तै

  • Updated on 5/23/2022

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। अयोध्या श्रीराम जन्म भूमि में बन रहे राम मंदिर के निर्माण के पहले चरण(प्लिंथ निर्माण्) को सितंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। इसमें राजस्थान के साथ-साथ कर्नाटक, तेलंगाना के पत्थरों के जरिये निर्माण कार्य को पूरा करने और मंदिर की शोभा बढ़ाने का कार्य भी होगा। राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा ने अयोध्या श्री राम मंदिर की प्रगति रिपोर्ट (23 मई, 2022 तक की जानकारी साझा की है। बताया जाता है कि 1 जून से मंदिर के गृभगृह का काम भी आरंभ कर दिया जाएगा। इस अवसर पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रह सकते हैं। मंदिर के गर्भगृह और नक्काशीदार बलुआ पत्थरों को लगाने का काम भी आरंभ कर दिया जाएगा। 

पानी किल्लत पर भाजपा ने किया मटका फोड़ प्रदर्शन
 गर्भगृह के अंदर राजस्थान के विशेष पत्थर का उपयोग होगा। मंदिर के प्लिंथ के काम को सितंबर तक पूरा करने का दावा भी समिति अध्यक्ष ने किया है। राम मंदिर के साथ ही परिसर में भगवान वाल्मीकि ऋषि, केवट, माता शबरी, जटायु, माता सीता, विघ्नेश्वर (गणेश) और शेषावतार (लक्ष्मण) के मंदिर निर्माण भी प्रस्तावित हैं। प्लिंथ कार्य में मुख्य चबूतरे आदि को 6.5 मीटर की ऊंचाई तक उठाया जाएगा। प्लिंथ को ऊंचा करने के लिए कर्नाटक और तेलंगाना के ग्रेनाइट पत्थर के ब्लॉक का इस्तेमाल किया जा रहा है। बताया जाता है कि एक ब्लॉक की लंबाई 5 फीट, चौड़ाई 2.5 फीट और ऊंचाई 3 फीट है। इसमेंं लगभग17,000 ग्रेनाइट ब्लॉकों का उपयोग किया जाएगा। सितंबर, 2022 के अंत तक प्लिंथ को ऊंचा करने का काम पूरा किया जा सकता है। गर्भगृह के अंदर और बाहर लगने वाले गुलाबी बलुआ पत्थर भरतपुर राजस्थान व सिरोही से लाए गए हैं। मंदिर में 4.70 लाख क्यूबिक फीट नक्काशीदार पत्थरों का इस्तेमाल किया जाएगा। 

पहले चरण में 25 हजार तीर्थयात्रियों के लिए सुविधाएं विकसित होंगी

मंदिर निर्माण समिति की योजना है कि शुरुआत में पहले चरण में लगभग 25 हजार तीर्थयात्रियों के लिए सुविधाओं को विकसित किया जाएगा। योजना है कि स्टेशन के आस-पास भी यात्रियों को ऐसी सुविधाएं दी जाएं ताकि वे तीर्थयात्रा में ठहरने से लेकर रामलला के दर्शन करने में सहायक साबित हों। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.