Friday, Dec 06, 2019
siem reap cambodia the confluence of modernity with mythology

Siem Reap की तरह विकसित होगी अयोध्या नगरी, जानें इसकी खासियत

  • Updated on 12/2/2019

नई दिल्ली/ सोहित शर्मा। अयोध्या (Ayodhya) मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के फैसले के बाद से उत्तर प्रदेश  (Uttar pradesh) सरकार निर्माण कार्य को लेकर अलर्ट हो गई है। प्रदेश सरकार का प्रयास है कि अयोध्या में राम मंदिर को संपूर्ण विश्व में एक धार्मिक और सांस्कृतिक नगरी के रुप में विकसित किया जाए। पर्यटन एवं संस्कृति विभाग ने सीएम  योगी के समक्ष कंबोडिया (Cambodia) के शहर सीएम रीप की तरह अयोध्या नगरी को विकसित करने की कार्ययोजना प्रस्तुत की है।

अयोध्या फैसले व पवार- उद्धव से झटका खा UP की नब्ज टटोलने पहुंचे अमित शाह

सीएम रीप पश्चिमी कंबोडिया के सीएम प्रांत की राजधानी है
दरअसल, सीएम रीप मॉर्डन सिटी और पौराणिक नगर का मिश्रण है। इस शहर को इस तरह से विकसित किया गया है कि यहां प्राचीन मंदिरों के साथ-साथ मॉडर्न फैसिलिटीज उपलब्ध हैं। सीएम रीप पश्चिमी कंबोडिया के सीएम प्रांत की राजधानी है। इसे अंकोर क्षेत्र का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है। अंकोर क्षेत्र दुनियाभर में इतना प्रसिद्ध है कि दुनिया भर से पर्यटन यहां घूमने आते हैं। ये विशाल मंदिर खामेर साम्राज्य के समय में बनवाए गए थे। इतना ही नहीं अब ये जगह यूनेस्को (UNESCO) की वर्ल्ड हेरिटेज साइट (World Heritage Site) में शामिल हैं। 

अयोध्या फैसले के खिलाफ AIMPLB दिसंबर के पहले सप्ताह में करेगा पुनर्विचार याचिका दायर

सबसे आधुनिक शहर है सीएम रीप
विश्व के आधुनिक शहरों में सीएम रीप अग्रणी शहरों में एक है। यहां आपका परिचय न सिर्फ प्राचीन काल की संस्कृति से होगा, बल्कि आप खुद को दूनिया के सबसे आधुनिक शहर मे भ्रमण करता भी पाएंगे। यह शहर अपने आप में कई संस्कृतियों को समेटे हुए है। यहांं पर्यटकों की हर जरुरी सुविधाओं का ध्यान रखा गया है।   

राम मंदिर पर फिल्म बनाने जा रही हैं कंगना रनौत, ये होगा टाइटल

ये है अंकोर मंदिर की खासियत
अंकोर क्षेत्र में स्थित यह मंदिर करीब 200 हेक्टेयर में फैला हुआ है। अंकोर दुनिया के सबसे विशाल व धार्मिक स्थानों में से एक है। दरअसल, ये मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित थे। इस स्थान पर 14वीं शताब्दी में भगवान बुद्ध की प्रतिमाओं का स्थापित किया गया था। 

क्या अयोध्या विवाद में दी गई व्यवस्था ‘ठोस तथा सुगम’ है

फ्रासीसियों ने इसके पुनरुत्थान करने का लिया फैसला
एक समय ऐसा भी आया जब सीएम रीप ने अपनी पहचान खो दी थी। लंबे समय के बाद फिर फ्रांसीसियों ने इसका पुनरुत्थान करने का फैसला लिया। इसके उपरांत फिर मंदिरों को खोजा गया और फिर इस शहर ने पर्यटन के क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान कायम की। 1953 में यहां पहले होटल का निर्माण हुआ और फिर दुनिया के नक्शे पर इस जगह ने अपनी एक अगल ही पहचान बनाई। 

comments

.
.
.
.
.