Tuesday, Sep 25, 2018

एशियाई खेलों में स्वर्ण जीतने वाली स्वप्ना के लिए खास जूते बनाएगी ADIDAS

  • Updated on 9/14/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पिछले महीने जकार्ता में हुए 18वें एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली स्वप्ना बर्मन के लिए एडिडास विशेष प्रकार के जूते बनाएगी। इसके लिए भारतीय खेल प्राधिकरण ने एडिडास के साथ करार किया है। यह जूते विशेष रुप से तैयार किए जाएंगे।

दरअसल स्वप्ना बर्मन के पैरों में 12 अंगुलियां हैं जिसके चलते उन्हें साधारण जूता पहनने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। स्वप्ना बर्मन ने एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने के बाद खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से भावुकता के साथ अपील की थी। 

माथे पर बिंदी और सिर पे दुपट्टा लिए ये क्या कर रहे हैं गौतम गंभीर, जानकर हो जाएंगे हैरान

इसके बाद खेल मंत्री ने तुरंत इंतजाम करने के निर्देश दिए। तब तुरंत ही SAI ने उनके लिए जूते तैयार करने के प्रयास किए। उन्होंने इस संभंध में जूतों की नामचीन कंपनी एडिडास से बात की। जिसके बाद एडिडास ने ये विशेष जूते मुहैया कराने पर सहमति जतायी है।

इस बात की पुष्टि स्वप्ना के कोच सुभाष सरकार ने की है। उन्होंने बताया कि गुरुवार को उन्हें साई के नई दिल्ली मुख्यालय से मेल आया था। जिसमें स्वप्ना के जूतों से संबंधित जानकारी मांगी गई थी। जिसके बाद स्वप्ना के लिए कस्टमाइज जूते तैयार किए जाएंगे। 

ऑस्ट्रेलिया में टीम का प्रदर्शन सुधारने के लिए शास्त्री ने BCCI से कही ये बात

इसके अलावा स्वप्ना के कोच ने कहा कि मुझे अभी स्वप्ना से मिलना है, क्योंकि वह चोटिल हैं। मैं जैसे ही उनसे मिलूंगा इस बारे में बात करूंगा। आपको बता दूं कि स्वप्ना को पिछले साल सितंबर में सरकार की टॉप्स स्कीम में शामिल किया गया था। 

उल्लेखनीय है कि स्वप्ना ने कुल 7 स्पर्धाओं में 6026 अंकों के साथ पहला स्थान प्राप्त किया। स्वप्ना ने 100 मीटर की हीट-2 में 981 अंकों के साथ चौथा स्थान हासिल किया था। ऊंची कूद में 1003 अंकों के साथ पहले स्थान पर कब्जा जमाया। इसके अलावा गोला फेंक में वह 707 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रहीं। 200 मीटर रेस में उन्होंने हीट-2 में 790 अंक लिए। 

Asia Cup से पहले Dhoni का दिखा अलग रूप, हाथ में बल्ले की जगह दिखी ये चीज

इसके अलावा स्वप्ना ने गोल्ड जीतने के बाद सरकार से अपने लिए घर की इच्छा जताते हुए कहा, मेरी एक ही इच्छा है कि मेरा साई कॉम्पलेक्स के पास एक घर हो। मुझे अभी साई कॉम्पलेक्स में रहना होता है, लेकिन जब मेरी ट्रेनिंग नहीं होती तो मेरे पास रहने के लिए जगह नहीं है। अगर सरकार मुझे एक घर देती है तो मेरी बहुत मदद हो जाएगी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.