Sunday, Mar 24, 2019

घर में आकर बदला ले गए कंगारु, टीम इंडिया की हार में ये 5 बड़ी वजह बनी खलनायक

  • Updated on 3/14/2019

नई दिल्ली/अमरदीप शर्मा। जिस बात का डर था आखिरकार वही सच हो गया। भारतीय टीम अपने ही घर में वनडे सीरीज हार गई। ये हार भारत के पहलू से बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं की जा सकती है। ऑस्ट्रेलिया की टीम सीरीज जीतकर घर वापस चली गई। हालांकि भारत के लिए कई तरह के सवाल खड़े कर गई। जिसका उत्तर कप्तान कोहली  (Virat kohli) और टीम मैनेजमैंट को सोचना पड़ेगा। विश्वकप से पहले ये भारत की आखिरी सीरीज थी जिसमें टीम को हार का सामना करना पड़ा। 

भारत की इस सीरीज में हार के कई कारण रहे। जिनको लेकर लंबी चर्चा हो सकती है। लेकिन एक बात तो साफ है कि भारत इस सीरीज में विश्वकप में खेलने वाली टीम के लिए लगातार प्रयोग करते हुए नजर आया। टीम बैकफुट पर नजर आई। कंगारु टीम ने एक बार फिर विश्व क्रिकेट में साबित कर दिया कि भारत को उसी के घर में जाकर भी हराया जा सकता है। इसके साथ ही कुछ दिनों पहले तक जिस टीम को विश्वकप की प्रबल दावेदार माना जा रहा था अब उस पर प्रश्नचिंन्ह लग गया है।

चलिए हम आज हम भारत को इस सीरीज में मिली हार के प्रमुख कारणों पर प्रकाश डालते हैं। हालांकि इससे पहले बड़ा सवाल ये है कि जिन चीजों को परखने के लिए भारत ने प्रयोग किए उनके जवाब कप्तान को अभी तक नहीं मिले और बदले में सीरीज गंवानी पड़ी। भारत को इस मुद्दे पर नए सिरे से सोचने की जरुरत है। इसके साथ ही आईपीएल ( IPL) में खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर भी नजर रखनी होगी।

ऑस्ट्रेलिया को कमजोर आंकना...

भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में हराकर आई। जिससे टीम में अतिआत्मविश्वास नजर आया। जरुरत से ज्यादा
आत्मविश्वास टीम के लिए खतरा साबित हुआ। कंगारु टीम को हल्के में लेना भारतीय टीम को भारी पड़ा। टीम ने अपने प्रमुख खिलाड़ियों को टीम से बाहर बिठा दिया है। पांड्या को पहले से ही चोट के नाम पर सीरीज से बाहर रखा गया। इसके साथ ही धोनी (Mahendr singh dhoni)  को भी सीरीज के बीच में आराम दिया गया है। पिछले तीन महीने से भारत लगातार प्रयोग करता रहा। 

जरुरत से ज्यादा प्रयोग...

ये सीरीज विश्वकप से पहले आखिरी सीरीज थी तो कप्तान के बाद विश्वकप में खिलाने के लिए सही टीम चुनने की बड़ी जिम्मेदारी थी। इसके चलते कोहली ने लगभग सभी मैचों में टीम बदली। रायडू को टीम से बाहर करके राहुल को खिलाया गया। जोकि खास कमाल नहीं कर पाए। शानदार गेंदबाजी के बाद भी शमी को एक मैच में बाहर बिठा दिया गया। कप्तान कोहली एक मुकबाले में चौथे नंबर पर उतरे। बीच सीरीज में से धोनी को आराम दिया गया। जिसके बाद टीम लगातार मुकाबले हार गई। 

कुल्चा की जोड़ी को तोड़ा...

करीब पिछले 2 साल से कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी ने विश्व के तमाम बड़े बड़े बल्लेबाजों ने अपनी फिरकी के दम पर खूब नचाया है। इसके बाद भी कप्तान ने इन दोनों की जोड़ी को तोड़ते हुए किसी एक को ही मौका देने को तरजीह दी गई। ये दोनों ही गेंदबाज जब साथ में गेंदबाजी करते हैं तो ज्यादा घातक नजर आते हैं।  टीम ने ये प्रयोग रविंद्र जडेजा को शामिल करने के लिए किया। रविंद्र जडेजा एक स्पिनर आलराउंडर खिलाड़ी हैं। हालांकि पूरी सीरीज में वो गेंद और बल्ले में से किसी एक के साथ भी खास कमाल नहीं दिखा पाए। 

मर्जी से खिलाड़ियों को आराम देना...

हार्दिक पांड्या एशिया कप के दौरान बुरी तरह से चोटिल हो गए थे। जिसके बाद उन्हें पूरे दौरे से आराम दे दिया गया। इसके बाद पांड्या टीवीव शों में विवादित टिप्पणी करने के चलते बाहर कर दिए गए थे, लेकिन जब उनसे बैन हटा तो उन्हें फोरन वापस ऑस्ट्रेलिया बुला लिया गया। इसके बाद भारत आकर उन्होंने फिर टीम से आराम ले लिया, क्योंकि वे आईपीएल में खेलने के लिए फिट होना चाहते थे। इसके साथ ही महेंद्र सिंह धोनी की कमी टीम को जमकर खली। 

ओपनर रहे फ्लाप...

भारतीय टीम की बल्लेबाजी को मजबूती देने के लिए उसके ओपनर बल्लेबाजों का चलना बेहद जरुरुी रहता है। लेकिन अगर हम रांची वनडे की बात नहीं करें तो पूरी सीरीज में बल्लेबाज संघर्ष ही करते नजर आए। ओपनर अर्धशतकीय पारी खेलने के लिए जूजते रहे । हालांकि एक मुकाबले में दोनों ही बल्लेबाजों ने शानदार शुरुआत दी जिसका असर देखने को मिला कि भारत ने उस मैच में 358 रनों का विशाल स्कोर बनाया। हालांकि भारत उस मैच को भी हार गया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.