Tuesday, Oct 03, 2023
-->
bcci-and-cricket-australia-clash-over-day-night-test-match

डे-नाइट टेस्ट मैच को लेकर BCCI और क्रिकेट आस्ट्रेलिया में ठनी

  • Updated on 5/2/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इस साल के आखिर में होने वाली टेस्ट सीरीज के दौरान दिन-रात्रि टेस्ट मैच को लेकर क्रिकेट आस्ट्रेलिया और बीसीसीआई के बीच ठन गई है। क्रिकेट आस्ट्रेलिया के CEO जेम्स सदरलैंड का कहना है कि भारत दिन-रात्रि टेस्ट मैच में खेलने से इसलिए इनकार कर रहा है, क्योंकि वह हर कीमत पर आस्ट्रेलियाई जमीन पर जीत दर्ज करना चाहता है। 

जस्टिस जोसेफ को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाने का फैसला SC कॉलेजियम ने टाला

उधर, बीसीसीआई भी इस प्रस्तावित मैच को नामंजूर करने पर अड़ा हुआ है। बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति के चीफ विनोद राय ने स्पष्ट कर दिया है कि दिन रात्रि टेस्ट मैच नहीं होगा। उधर, सदरलैंड का मानना है कि भारत के खिलाफ 6 से 10 दिसंबर के बीच एडिलेड में गुलाबी गेंद से मैच के आयोजन का फैसला करना सीए का विशेषाधिकार है। 

'बाहुबली' के बाद अब 'साहो' के लिए पसीने बहा रहे हैं प्रभास, श्रद्धा भी तैयार

एसईएन रेडियो से बातचीत करते हुए सदरलैंड ने कहा, 'मेरी पर्सनल राय है कि मेजबान देश को मैचों का कार्यक्रम तय करने का हक होना चाहिए और वह जिस वक्त चाहे तब इन मैचों की शुरुआत कर सकता है।' इस संबंध में विनोद राय ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि बीसीसीआई के नजरिए में बदलाव होगा। हम पहले ही तय कर चुके हैं कि दिन-रात्रि गुलाबी गेंद के मैच प्रथम श्रेणी स्तर पर होते रहेंगे। दलीप ट्राफी फिर से दूधिया रोशनी में खेली जाएगी।'

जिन्ना की तारीफ योगी के मंत्री मौर्य को पड़ी भारी, पार्टी से निकालने की मांग शुरू

हालांकि राय ने कहा कि भारत के इनकार करने को यह नहीं मान लेना चाहिए कि दोनों बोर्ड में इसको लेकर टकराव के हालात हैं। उन्होंने कहा, 'मैं इसे टकराव की वजह नहीं मानता। खेल के हालातों में दोनों बोर्ड को सहमति से मिलकर फैसला करना होता है। लेकिन मैं फिर से साफ कर देना चाहता हूं कि भारत गुलाबी गेंद वाले टेस्ट मैच में नहीं खेलेगा।'

येदियुरप्पा के साथ खड़े होकर भ्रष्टाचार पर बात नहीं करें पीएम मोदी : कांग्रेस

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.