Sunday, Jun 13, 2021
-->
india vs australia live todays test match rohit sharma sobhnt

Ind vs Aus 4th Test: बारिश के खलल के बीच भारत को 328 रन का लक्ष्य

  • Updated on 1/18/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल।  तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) और शारदुल ठाकुर की उम्दा गेंदबाजी के दम पर आस्ट्रेलिया को चौथे क्रिकेट टेस्ट के वर्षाबाधित चौथे दिन सोमवार को दूसरी पारी में 294 रन पर आउट करने के बाद भारत को आखिरी दिन जीत के लिये 324 रन बनाने होंगे।

भारत को 328 रन का लक्ष्य मिला जिसके जवाब में बारिश के कारण चौथे दिन खेल समय से पहले रोके जाने तक भारत ने बिना किसी नुकसान के चार रन बना लिये थे। रोहित शर्मा चार रन बनाकर खेल रहे हैं जबकि शुभमन गिल ने अभी खाता नहीं खोला है। गाबा की विकेट को देखते हुए यह लक्ष्य बहुत मुश्किल होगा। गाबा पर चौथी पारी में सर्वोच्च लक्ष्य का पीछा करके जीत 1951 में वेस्टइंडीज ने हासिल की है जब उसने 236 रन बनाये थे।

अपने प्रमुख गेंदबाजों के बिना खेल रही भारतीय टीम के युवा और अनुभवहीन तेज गेंदबाजों ने अपने फन का लोहा फिर मनवाया। सिराज ने 19 . 5 ओवर में 73 रन देकर पांच विकेट लिये, वहीं ठाकुर ने 61 रन देकर चार और मैच में कुल सात विकेट चटकाये। सिराज ने पांच विकेट लेने के बाद मैदान पर जमा करीब एक हजार दर्शकों की ओर गेंद दिखाकर अभिवादन स्वीकार किया।  

केरल ने बल्लेबाज ने बनाए रिकॉर्ड 37 गेंदों में 100 रन, लगाए 11 छक्के

ऋषभ को थमाया कैच
भारत के लिये सिराज ने 31वें ओवर की तीसरी गेंद पर मार्नस लाबुशेन (22 गेंद में 25 रन) और आखिरी गेंद पर मैथ्यू वेड (0) को आउट किया । लाबुशेन ने दूसरी स्लिप में रोहित शर्मा को और वेड ने विकेट के पीछे ऋषभ पंत को कैच थमाया ।इससे पहले डेविड वॉर्नर और मार्कस हैरिस ने पहले विकेट के लिये 89 रन जोड़े ।  

ICC के पोल में कोहली से आगे निकले इमरान, जानिए कितना रहा वोट प्रतिशत

पगबाधा को आउट किया
वॉर्नर ने 75 गेंद में छह चौकों की मदद से 45 रन बनाये लेकिन वाशिंगटन सुंदर ने उन्हें पगबाधा आउट किया । इसके बाद हैरिस 82 गेंद में 38 रन बनाकर शारदुल ठाकुर के बाउंसर का शिकार हुए जिनका कैच पंत ने लपका । हैरिस ने अपनी पारी में आठ चौके जड़े । गाबा पर चौथी पारी में सर्वोच्च लक्ष्य का पीछा करके जहीत 1951 में वेस्टइंडीज ने हासिल की है जब उसने 236 रन बनाये थे ।     

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.