Wednesday, Mar 20, 2019

ये 5 बातें टीम इंडिया को घर में सीरीज हारने से बचा पाएंगी, कप्तान कोहली को करना होगा मंथन

  • Updated on 3/12/2019

नई दिल्ली/अमरदीप शर्मा। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच मैंचों की सीरीज में से शुरुआती 2 मुकाबले जीतने के बाद शायद किसी ने नहीं सोचा होगा कि भारतीय टीम अपने घर में ही सीरीज जीतने के लिए तरस जाएगी। भारतीय टीम ने रांची और मोहाली में लगातार अपने मैच गवां दिए हैं। जिसके चलते सीरीज में घरेलू सर्जमी पर हार का खतरा मंडरा रहा है। आखिरी मुकाबला दिल्ली के फिरोजशाह कोटला में खेला जाना है। जिसमें दोनों ही टीमों को जीत से कम कुछ भी मंजूर नहीं होगा। 

भारत को इस सीरीज में जीत दर्ज करने के लिए अपना पूरा योगदान देना होगा। इसके साथ ही टीम को पिछले मुकाबलों में गई गलतियों से सीखकर आगे बढ़ना होगा। मोहाली  में खेले गए मुकाबले में भारतीय टीम ने 358 रनों का पहाड़ नुमा स्कोर बनाया था। हालांकि इसके बाद भी टीम ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों ने इसे आसानी से पार कर लिया। जिसके बाद टीम पर सवाल उठना शुरु हो गए। विश्वकप से पहले भारत का ये आखिरी एकदिवसीय मुकाबला है। 

ICC की पाक को फटकार, कहा- हमने दी थी भारत को सेना की टोपी पहनने की इजाजत

सही प्लेइंग इलेवन खिलानी होगी...

भारतीय टीम को अपने अंतिम एकादश का सही संयोजन बिठाना होगा। विराट कोहली को तीन नंबर पर ही बल्लेबाजी के लिए उतरना चाहिए। विराट ने इस नंबर पर काफी रन बनाए हैं। इसके साथ ही विजय शंकर का सही वक्त टीम फायदा नहीं उठा पा रही है। केएल राहुल की जगह वापस रायडू को टीम में खिलाने पर ध्यान देना होगा। कुलदीप और चहल को
लगातार खिलाकर भरोशा मजबूत करवाना होगा। भुवनेश्वर को लगातार टीम में बनाए रखना होगा। 

फील्डिंग में जोर देना होगा...

भारतीय टीम पिछले मुकाबले में फील्डिंग के मामले में काफी दोयम दर्जे की नजर आई। विकेट के पीछे कैच छूटे। इसके साथ ही स्टंपिंग में भी बड़े मौके गवाए गए। रिषभ पंत को विकेट के पीछे ज्यादा मेहनत करने की जरुरत है। पंत ने दर्नर का कैच और स्टंपिंग दोनों में मौके देकर उन्हें हाथ खोलने का मौका दिया। जिसके बाद वे मैच को ले उड़े। 

आलोचना से कोई फर्क नहीं पड़ता, अपनी दुनिया में जीता हूं: शिखर धवन

मध्यक्रम चिंता का विषय...

पिछले मुकाबले में रोहित और धवन ने टीम को बेहद शानदार शुरुआत दी थी। जिसकी उनसे उम्मीद की जाती है। इसके बाद पुछल्ले बल्लेबाजों ने टीम को बड़े स्कोर तक पहुंचा दिया। हालांकि जितने बड़े स्कोर की नींव रखी गई ती शायद उसमें कुछ पीछे रह गई टीम। विराट कोहली का आउट होने के बाद आगे के बल्लेबाजों में धार नहीं दिखी थी। केएल राहुल ने स्थिति के हिसाब से काफी धीमी बल्लेबाजी की। इसी बीच लगातार विकेट गिरते रहे। जिससे भारतीय टीम करीब 25-30 रन पीछे रह गए। 

बिशन सिंह बेदी बोले- धोनी की अनुपस्थिति में कोहली दिखते हैं असहज

ओस बन सकती है मुसीबत...

फिरोजशाह कोटला में रात के वक्त ओस गिरने के आसार हैं। जिससे स्पिनर गेंदबाजों को काफी दिक्कत हो सकती है। पिछले मुकबाले में भी इसका काफी ज्यादा असर देखने को मिला था। कुलदीप और चहल के हाथों से गेंद फिसल रही थी। जिसके चलते उन्हें स्विंग कराने में समस्या हो रही थी। इसका असर बाद में गेंदबाजी करने वाली टीम पर हो सकता है। 

धोनी - पांड्या की करनी होगी भरपाई...

इस मैच में दो अहम खिलाड़ी नहीं खेल रहे हैं। जिसकी भरपाई टीम को करनी होगी। महेंद्र सिंह धोनी की अनुपस्थिति में कोई भी खिलाड़ी टीम में उनकी भूमिका के आस-पास भी प्रदर्शन नहीं कर पाता है। लिहाजा भारत को कीपिंग और बैटिंग दोनों ही में धोनी की कमी खलती है। इसके अलावा पांड्या भी इस मैच में बाहर हैं। उनकी जगह वियज शंकर अभी उतने प्रभावशाली नहीं दिख रहे हैं। पंड्या तीसरे तेज गेंदबाज की भूमिका निभाते हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.