Wednesday, Jun 26, 2019

विश्वकप में गेंद के साथ कमाल दिखाना चाहता है ये ऑस्ट्रेलियाई तूफानी बल्लेबाज

  • Updated on 5/22/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिये मशहूर ग्लेन मैक्सवेल विश्व कप में अपनी अनियमित आफ स्पिन गेंदबाजी से आस्ट्रेलिया की जीत के सूत्रधार बनना चाहते हैं। आरोन फिंच के कप्तान बनने के बाद से मैक्सवेल ने हर मैच में पांच ओवर औसतन डाले हैं। वहीं स्टीव स्मिथ की कप्तानी में उन्होंने औसतन 2.4 ओवर प्रति मैच डाले थे। 

उन्होंने भारत और यूएई दौरे पर तीन बार दस ओवर का कोटा भी पूरा किया। मैक्सवेल ने कहा , मैने दुबई और भारत में कुछ ओवर गेंदबाजी की। कुछ और ओवर डालकर लय बनाये रखना चाहता था। मैने लंकाशर में काउंटी खेलते समय उसे कायम रखा। उन्होंने कहा ,‘एक अनियमित गेंदबाज के पास लय होना जरूरी है। 

विश्वकप में भारतीय टीम के खिलाड़ी हैं सबसे उम्रदराज, अनुभव में भी अव्वल है विराट सेना

मैं रन रोकने के लिये गेंदबाजी करता हूं। ऐसे में विरोधी टीम पर दबाव आ जाता है । मैं दूसरे गेंदबाजों के सहायक की भूमिका निभाना चाहता हूं। मैक्सवेल ने आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम में अपनी जगह फिर पाने के लिये आईपीएल छोड़कर काउंटी क्रिकेट खेला। उन्होंने कहा ,आईपीएल नहीं खेलना बड़ा फैसला था। लंबे समय में मैं अपनी पहचान दो बार विश्व कप जीतने वाले खिलाड़ी के रूप में बनाना चाहता हूं, अमीर खिलाड़ी के रूप में नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.