Tuesday, Aug 21, 2018

कांग्रेसी नेताओं की ये ‘तिकड़ी’ त्रिवेंद्र सरकार को घेरेगी सड़क से सदन तक, कर्जमाफी होगा अहम मुद्दा

  • Updated on 3/13/2018

देहरादून/ब्यूरो। कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में गैरसैंण में आयोजित होने वाले विधानसभा के बजट सत्र का बिजनेस तय होते ही विपक्षी दल कांग्रेस त्रिवेन्द्र सरकार को घेरने की रणनीति बनाने में जुट गया है। नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह व विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष गोविन्द सिंह कुंजवाल ने बंद कमरे में लंबी गुफ्तगू कर अपनी प्लानिंग को अंतिम रूप दिया। 

बाद में इंदिरा सिर्फ इतना बोलीं कि कांग्रेस के पास सरकार को घेरेने के लिए मुद्दों की कमी नहीं है। सदन के भीतर हमारा विरोध गैरसैंण को राजधानी न बनाए जाने से शुरू होकर किसानों की कर्जमाफी तक चलेगा।

सौ वार्डों पर तीन सौ दावेदार, टिकट आवंटन बना भाजपा के लिए सिरदर्द

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के अलावा कांग्रेस के दो विधायक प्रीतम सिंह (प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष) व गोविन्द सिंह कुंजवाल (विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष) विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति के सदस्य हैं। सोमवार को विधानसभा में कार्य मंत्रणा समिति की बैठक समाप्त होते ही ये तीनों नेता इंदिरा हृदयेश के कक्ष में काफी देर तक बैठे रहे। 

इस प्रदेश की नेता प्रतिपक्ष बोलीं, सरकार का धर्मांतरण कानून महज चुनावी शिगूफा

तीनों के बीच बंद कमरे में लंबी मंत्रणा हुई। इस मंत्रणा के बाद इंदिरा हृदयेश ने कहा कि गैरसैंण में आयोजित होने वाले आगामी बजट सत्र में कांग्रेस सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाएगी। विरोध के नाम पर सदन में व्यवधान पैदा नहीं किया जाएगा। लेकिन कई ऐसे मुद्दे हैं जिन पर विपक्ष नेता सदन से जवाब भी चाहेगा। सरकार को अपनी जिम्मेदारी से बचने नहीं दिया जाएगा।

‘जनता दरबार’ लगाने की जगह सरकार खुद जा रही है ‘जनता के द्वार’

उन्होंने कहा कि हम सरकार से पूछेंगे कि गैरसैंण में सिर्फ सत्र चलाने से कुछ नहीं होगा। सरकार को जनाकांक्षाओं के अनुरूप राजधानी पर निर्णय लेना ही होगा। उत्तराखण्ड में किसानों की कर्जमाफी क्यों नहीं की जा रही है, इसका जवाब भी सरकार से मांगा जाएगा। भ्रष्टाचार और बेरोजगारी जैसे मुद्दों को भी विपक्ष सदन के भीतर धार देगा। 

अल्मोड़ा बस हादसे में चालक सहित 13 की मौत, राज्यपाल सहित कई नेताओं ने जताया शोक

सोमवार को कांग्रेस की इस तिकड़ी के बीच हुई बैठक को विधानसभा सत्र के लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है। सत्र के दौरान सदन ही नहीं, सड़क पर भी कांग्रेस जनहित के मुद्दों को लेकर मुखर रहना चाहती है। हृदयेश और प्रीतम की गुफ्तगू को इस सिलसिले में अहम माना जा रहा है। सत्र के दौरान कांग्रेस संगठन भी सड़कों पर आन्दोलित दिखाई देगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.