Saturday, Apr 21, 2018

उत्तराखंड: सचिवालय पर गरजे PRD जवान, मांगों का निस्तारण न होने पर किया प्रदर्शन

  • Updated on 4/16/2018

देहरादून/ब्यूरो। लंबे समय से लंबित मांगों का निस्तारण न होने से गुस्साए पीआरडी जवानों ने सचिवालय कूच करते हुए प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और प्रदर्शन किया। सचिवालय से पहले पुलिस बल ने उन्हें सेंट जोजेफ एकेडमी के पास बैरिकेडिंग लगाकर रोक लिया। इस दौरान जवानों ने बैरिकेडिंग पार करने की कोशिश भी की, लेकिन पुलिस के सामने उनकी एक न चली।
 
तय कार्यक्रम के तहत सोमवार को प्रांतीय रक्षक दल हित संगठन के बैनर तले पुरुष व महिला पीआरडी जवान परेड ग्राउंड में एकत्रित हुए। वहां से रैली के रूप में सचिवालय कूच किया। सचिवालय की ओर आगे बढ़ रहे जवानों को पुलिस बल ने सेंट जोजेफ एकेडमी के गेट से पहले बैरिकेडिंग लगाकर रोक लिया। इस बीच कुछ जवानों ने बैरिकेडिंग पर चढ़ने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उनके प्रयास को नाकाम कर दिया।

बॉयोमैट्रिक उपस्थित के विरोध में छात्रों ने की तालाबंदी, प्राचार्य ने कहा-कॉलेज को नहीं मिला आदेश
 
इस पर सभी जवान वहीं धरने पर बैठ गए और मुख्य सचिव से वार्ता की मांग करने लगे। धरने को संबोधित करते हुए संगठन के प्रदेश अध्यक्ष प्रमोद मंद्रवाल ने कहा कि प्रदेश सरकार लंबे समय से पीआरडी जवानों की न्यायोचित मांगों की अनदेखी कर रही है। 

पीआरडी जवान सरकारी-अर्धसरकारी विभागों में पुलिस के साथ कंधे से कंधा मिलाकर और विभागों में कंप्यूटर ऑपरेटर, अनुसेवक, वाहन चालक, चौकीदार आदि के रूप में बिना किसी मूलभूत सुविधाओं के ड्यूटी देते आ रहे हैं। लेकिन जवानों को दैनिक मानदेय के अलावा किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं दी जा रही है।

वहीं, अधिकारियों की मिलीभगत से अप्रशिक्षित जवानों को ड्यूटी दी जा रही है, जबकि प्रशिक्षित जवान बेरोजगार बैठे हैं। उनके सामने रोजगार का संकट है। सरकार की ओर से सिटी मजिस्ट्रेट मनुज गोयल जब ज्ञापन लेने पहुंचे, जवानों ने उनसे मिलने से मना कर दिया। वे मुख्य सचिव से वार्ता पर अड़े रहे।

CPA में गूंजा उत्तराखंड का पेपरलेस बजट, सत्र आहूत करने पर विस अध्यक्ष को मिली शाबाशी

शाम करीब चार बजे सीओ डालनवाला जया बलूनी पीआरडी जवानों से मिलने पहुंची। उन्होंने जवानों को निदेशक युवा कल्याण से मुलाकात कराने का आश्वासन दिया। इस पर जवानों ने धरना समाप्त किया। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष प्रमोद मंद्रवाल ने बताया कि सीओ डालनवाला ने मंगलवार को मांगों के संबंध में विभागीय निदेशक से वार्ता कराने की बात कही है। 

अगर वार्ता में कोई सकारात्मक निर्णय नहीं लिया गया, तो पीआरडी जवान उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे। इस दौरान संगठन के जिलाध्यक्ष अशोक शाह, महासचिव विजेंद्र सिंह लोधी, कोषाध्यक्ष विनीता क्षेत्री, सोहन सिंह लोधी, सूर्या शर्मा, संजय धीमान, अजीत आदि मौजूद रहे। 

रैली के चलते लगा जाम
पीआरडी जवानों के सचिवालय कूच के दौरान अभिषेक टावर के पास जाम लग गया। राजपुर रोड, सर्वे चौक, बहल चौक से आने-जाने वाले वाहनों की कतार लग गई। करीब एक घंटे तक जाम की स्थिति रही। उस समय सेंट जोजेफ एकेडमी की छुट्टी भी हुई। ऐसे में स्कूल से निकलने वाले बच्चों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा।

PRD जवानों की प्रमुख मांगें

  • राज्य के पीआरडी जवानों को नियमित रोजगार और विभागीय संविदा का मिले लाभ। 
  • जवानों को बेल्ट व बैच नंबर आवंटित किया जाए। साथ ही उनकी संख्या निर्धारित करते हुए 12 माह का नियमित रोजगार दिया जाए।
  • राज्य कर्मचारियों की तरह पीआरडी जवानों को मिलें मूलभूत सुविधाएं। 
  • जवानों के वेतन में बढ़ोतरी, बीमा, मेडिकल की मिले सुविधा।
  • पीआरडी जवान की मृत्यु हो जाने पर 10 लाख रुपये मिले बीमा राशि, आश्रितों को मिले ड्यूटी।
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.