Friday, Feb 28, 2020
punjab bathinda jail policemen dozen inmates beat

बठिंडा जेल में एक दर्जन कैदी ने किया मारपीट, पुलिसकर्मी बने रहे मूकदर्शक

  • Updated on 2/10/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। विजय बठिंडा जेल (Bathinda Jail) में सुबह 10 बजे दर्जन से अधिक कैदी आपस में भिड़ गए जिनमें आधा दर्जन घायल हो गए। सुबह 10 बजे नहाने के बाद एक कैदी ने अपने दूसरे साथी कैदी से शीशा मांगा लेकिन शीशा न देने पर विवाद हो गया और देखते ही देखते कैदी 2 गुटों में बंट गए व नौबत हाथापाई तक आ गई। 

बागी नेता अकाली दल में लौटना चाहें तो हो सकता है विचार : सुखबीर बादल

मूकदर्शक बने रहे पुलिसकर्मी
दोनों ओर से कैदियों के समर्थक एक-दूसरे को ललकारने लगे जबकि जेल में तैनात पुलिसकर्मी (Policemen) मूकदर्शक बने रहे। हाथ में जो आया उसको कैदियों ने एक-दूसरे पर फैंक दिया जिससे कुछ को गंभीर चोटें आई। कैदियों की लड़ाई को देखते हुए सभी जेल कर्मियों को आपात में बुलाया गया और कैदियों की लड़ाई पर नियंत्रित किया गया। सिविल अस्पताल में इलाज करवाने गए कैदी कुछ भी बताने से गुरेज करने लगे। इसकी सूचना थाना कैंट पुलिस को दी गई तो पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी। 

थाना कैंट प्रभारी नरेन्द्र कुमार ने बताया कि कोई भी कैदी न तो शिकायत दर्ज करवाने को तैयार है और न ही कैदियों ने अपना मैडीकल करवाया। जैसे जेल सुपरिंटैंडैंट जो निर्देश जारी करेंगे उन्हीं के आधार पर कार्रवाई होगी। 

नगर कीर्तन के दौरान ट्रॉली में धमाके में दो के चीथड़े उड़े, 11 गंभीर घायल

आम बात है जेल में नशा व मोबाइल फोन मिलना 
पंजाब (Punjab) में नाभा जेल के बाद 2 अन्य जेलें जिनमें बठिंडा व कपूरथला जेल (Kapurthala Jail) शामिल है, को आधुनिक बनाया गया लेकिन इन जेलों में नशा, मोबाइल फोन मिलना आम बात है, जबकि कैदियों की सुरक्षा पर भी सवालिया निशान लगता नजर आ रहा है। चाहकर भी इसे नियंत्रण नहीं किया जा रहा। पंजाब सरकार द्वारा मोबाइल संचार को रोकने के लिए जेलों में जैमर लगाने की बात की गई थी लेकिन यह मामला खटाई में है। 

एक सप्ताह पहले भी भिड़े थे 2 गुट 
बता दें कि केंद्रीय जेल (Central Jail) बठिंडा में बंद प्रवीन सिंह वासी बरेटा, सुरजीत सिंह बुर्ज महिमा, कर्णजीत सिंह मक्खू, परविन्द्र सिंह पटियाला, मल्लू सिंह धोबीआना, रणवीर सिंह वासी खेता सिंह बस्ती आपस में भिड़ गए। इससे पहले शनिवार को एक कैदी ने फंदा लगाकर अपनी जान दे दी थी जबकि एक सप्ताह पहले कैदियों के 2 गुट आपस में भिड़ गए थे और खूब मारपीट हुई थी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.