Wednesday, Oct 16, 2019
e commerce made profit of so many thousand crores in the festive season

फैस्टिव सीजन में E-Commerce को हुआ इतने हजार करोड़ रुपये का मुनाफा

  • Updated on 10/5/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश के ऑनलाइन रिटेल सैक्टर (Online Retail Sector) को फैस्टिव सीजन का भरपूर फायदा मिल रहा है। फैस्टिव सीजन की सेल में शुरूआती 3 दिन में ही ई-कॉमर्स साइट्स ने 1.8 अरब डॉलर (12.7 हजार करोड़ रुपए) की बिक्री कर ली है। रेडसीर कंसल्टिंग की रिपोर्ट के मुताबिक ई-कॉमर्स (E-Commerce) कम्पनियां 6 दिनी सेल (Sale) के अंत तक कुल 3.7 अरब डॉलर (26.23 हजार करोड़ रुपए) की सेल्स का आंकड़ा छू सकती हैं।

इस भारतीय ऐप ने प्रतियोगिताओं और फिल्टर्स से साथ की आने वाले उत्सवों की तैयारी शुरू

सेल्स टारगेट का 80-100 प्रतिशत हासिल कर सकती हैं कम्पनियां

रेडसीर कंसल्टिंग के सीईओ अनिल कुमार के मुताबिक नए ई-कॉमर्स नियमों के लागू होने के बाद ऑनलाइन मार्कीट प्लेस में आए बदलावों के बाद भी शुरूआती तीन दिन ई-टेलर्स के लिए अच्छे रहे हैं। इससे साफ  होता है कि लोग ऑनलाइन शॉपिंग के लिए अभी भी सकारात्मक हैं। रेडसीर का आकलन है कि पिछले साल के मुकाबले इस साल सेल पीरियड में ई-कॉमर्स कम्पनियां 3.7 अरब डॉलर (26.23 हजार करोड़ रुपए) कमाएंगी। पिछले साल के मुकाबले ग्रोस मर्चैट वैल्यू पर यह 60-65 प्रतिशत ग्रोथ है। साथ ही ई-कॉमर्स सैक्टर के अपने सेल्स टारगेट का 80 से 100 प्रतिशत हासिल करने की भी उम्मीद है।

Youtubers के लिए आया नया Go Pro Hero 8 एक्शन कैमरा

फैशन के लिए फ्लिपकार्ट, इलैक्ट्रॉनिक्स के लिए एमेजॉन को पसंद कर रहे लोग

रेडसीर ने ई-कॉमर्स मार्कीट के 2 सबसे बड़े खिलाड़ियों एमेजॉन (Amazon) और फ्लिपकार्ट (Flipkart) के अलग-अलग आंकड़े जारी नहीं किए, हालांकि रिपोर्ट में यह बताया गया कि उपभोक्ता (Consumers) ने फैशन प्रोडक्ट्स की शॉपिंग फ्लिपकार्ट से और इलैक्ट्रॉनिक उत्पादों की शॉपिंग एमेजॉन से करने को प्राथमिकता दी है। रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल की तरह ई-कॉमर्स सैक्टर की ग्रॉस मर्चैंट वैल्यू का 55 प्रतिशत मोबाइल से आया। इलैक्ट्रॉनिक्स, फैशन और फर्नीचर कैटागरीज में भी ग्रोथ देखी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.