Wednesday, Apr 08, 2020
xiaomi redmi note 7 pro new phone blast in india

चंद सेकेंड में Xiaomi के इस फोन में हुआ धमाका, तुरंत हो जाए सावधान

  • Updated on 3/16/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शाओमी (Xiaomi) के लोकप्रिय रेडमी नोट 7 प्रो (Redmi Note 7 Pro) स्मार्टफोन में ब्लास्ट होने की खबर सामने आई है। ऑनलाइन न्यूज वेबसाइट 91 मोबाइल्स की रिपोर्ट के मुताबिक गुड़गांव के रहने वाले विकेश कुमार के रेडमी नोट 7 प्रो में अचानक आग लग गई और इसमें ब्लास्ट हो गया। हैरानी की बात तो यह रही कि इसके लिए कम्पनी ने यूजर को ही जिम्मेदार ठहरा दिया है।

Redmi Note 7 Pro Blast In India

Whatsapp Chatbot ऐसे पहुंचाएगा Coronavirus से जुड़ी सही जानकारी

सर्विस सेंटर से मिली सिर्फ निराशा
सर्विस सेंटर (Service Center) पहुंचने पर यूजर को ही इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया और ब्लास्ट (Blast) होने से बैग में हुए होल को उन्होंने इस दौरान नापा भी। कम्पनी ने यूजर को रिप्लेसमैंट यूनिट के लिए फोन की कीमत का 50 प्रतिशत देने को कहा। हैरानी की बात तो यह है कि यूजर को दी गई जॉब शीट में कम्पनी ने ब्लास्ट की वजह न बताते हुए इसे ‘पावर ऑन फॉल्ट’ शो कर दिया।

Coronavirus से जंग में अपने यूजर्स के साथ Samsung, शुरु की ये फ्री सर्विस

Redmi Note 7 Pro Blast In India

कुथ सैकेंड में फोन ब्लास्ट
रिपोर्ट के मुताबिक गुरुग्राम (Gurugram) में रहने वाले रैडमी नोट 7 प्रो यूजर विकेश कुमार ने बताया कि जब वह अपने ऑफिस पहुंचे तो उनके फोन की बैटरी 90 प्रतिशत चार्ज थी। उन्हें लगा कि फोन तेजी से गर्म हो रहा है तो ऐसे में उन्होंने फोन को निकालकर पास रखे बैग पर फैंक दिया, जिसके बाद फोन में ब्लास्ट हो गया और बैग भी जल गया। फोन की वजह से लगी आग को बुझाने के लिए अग्निशमन यंत्र की मदद लेनी पड़ी।

लाइव स्लीपिंग वीडियो के जरिए भी आप बन सकते हैं मालामाल

अभी पिछले साल ही खरीदा था फोन
कुमार ने इस फोन को पिछले साल दिसम्बर में ही खरीदा था और उन्होंने आज तक इस फोन को साथ मिले चार्जर से ही चार्ज किया है। उन्होंने बताया कि अगर 5 सेकेंड और वह फोन को जेब से न निकालते तो उन्हें गंभीर चोट लग सकती थी।

महंगा होगा स्मार्टफोन, 18 प्रतिशत GST लगाने की तैयारी

शाओमी ने दी इस मामले पर सफाई
शाओमी ने इस मामले पर अपनी स्टेटमैंट में कहा है कि ‘शाओमी में कस्टमर सेफ्टी हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है। हम ऐसे मामलों को गंभीरता से लेते हैं। इस मामले पर हमने अच्छे से जांच की है और पाया है कि डिवाइस सर्विस सैंटर लाए जाने पर पहले ही फिजिकली डैमेज थी।’

comments

.
.
.
.
.