Tuesday, Jan 25, 2022
-->
Amarinder Singh Slams on AAP over farm bill enforcement in delhi KMBSNT

कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने AAP पर लगाया किसानों को धोखा देने का आरोप, कही ये बात

  • Updated on 12/2/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह (Amarinder Singh) ने दिल्ली में कृषि कानून को लागू करने को लेकर आम आदमी पार्टी (AAP) पर निशाना साधा है। किसानी प्रदर्शन (Farmer Protest) संबंधी दोगले रवैये पर हैरानी जाहिर करते हुए कैप्टन ने कहा कि संकट के दौरान खतरनाक कृषि कानूनों को शर्मनाक तरीके से लागू करने की कार्रवाई ने उनके किसानों के साथ खड़े होने के दावों से पर्दा उठा दिया है। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों पर केजरीवाल सरकार दोहरे मापदंड अपना रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक तरफ आम आदमी पार्टी संघर्ष कर रहे किसानों के समर्थन का दावा कर रही है जबकि दूसरी तरफ केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में 23 नवम्बर को गजट नोटिफिकेशन जारी कर क्रूरतापूर्वक काले कानूनों को लागू कर दिया है। यह पार्टी स्पष्ट तौर पर अपने चुनावी एजैंडे को आगे बढ़ाने के लिए राजसी चालें चल रही है। 

यह स्पष्ट है कि इन दिनों आप किसानों के हितों के खिलाफ काम कर रही थी। उन्होंने इस बात पर हैरानी जाहिर की कि जब किसान ‘दिल्ली चलो’ की तैयारी कर रहे थे तो केजरीवाल सरकार ने उस समय नोटिफिकेशन जारी कर राष्ट्रीय राजधानी में अन्नदाता की मौत के वारंट पर हस्ताक्षर कर दिए।

नहीं बनी सहमति! सरकार और किसान प्रतिनिधि फिर से 3 दिसंबर को करेंगे चर्चा

कैप्टन अमरेंद्र ने AAP से पूछा ये सवाल
कैप्टन अमरेंद्र ने ‘आप’ पर हर समय किसान यूनियनों की हिमायत का बहाना कर गुमराह करने का दोष लगाने के लिए निंदा करते हुए पूछा कि क्या आपको कोई शर्म है? पहले केंद्रीय कानूनों को निष्प्रभाव करने के लिए पंजाब की तर्ज पर दिल्ली विधानसभा में कोई संशोधन बिल पास करने में विफल हुए। अब इस बात पर उतर आए हैं कि दिल्ली में कृषि कानून नोटीफाई कर दिए जहां आप सत्ता में है। यहां तक कि अरविंद केजरीवाल की पार्टी ने कानूनों में अकालियों की भूमिका के लिए निंदा तक नहीं की।

किसान क्यों चाहते हैं MSP पर लिखित गारंटी? जानिए क्या है विरोध का बड़ा कारण…

किसानों पर जुल्म की एक बार भी निंदा नहीं की- कैप्टन अमरेंद्र
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों के अधिकारों की रक्षा के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं जबकि दूसरी तरफ केजरीवाल किसानों की जड़ों में तेल देने की तैयारियां कर रहा है। किसानों पर जुल्म की ‘आप’ ने एक बार भी ङ्क्षनदा नहीं की। यह भी माना जा रहा है कि दिल्ली में ‘आप’ सरकार ने राम लीला मैदान और जंतर-मंतर में रोष प्रदर्शन के लिए किसानों की मांग को भी स्वीकार नहीं किया। ‘आप’ को पूछा कि समूचे मसले पर भाजपा की राह पर क्यों चली।

ये भी पढ़ें-

comments

.
.
.
.
.