Wednesday, Dec 01, 2021
-->
america Supports Inviting Australia To Annual Malabar Exercise With Quad Countries prsgnt

मालाबार में युद्धाभ्यास के लिए तैयार हुए क्वॉड देश, चीन को संदेश देने के लिए ऑट्रेलिया भी आया साथ...

  • Updated on 10/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इस साल नवंबर में होने वाला मालाबार युद्धाभ्यास खास होने वाला है। इस बार भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रे लिया की नौसेनाएं 13 साल बाद एक साथ नजर आएंगी। इन चार देशों के साथ आने से चीन को कड़ा संदेश मिलेगा। ये चरों देश एक साथ आकर एक ही जगह पर अपना-अपना शक्ति प्रदर्शन करेंगे। 

इस युद्धाभ्यास के लिए अमेरिका ने ऑस्ट्रेलिया को न्योता दिया है और कहा है कि चीन कोरोना वायरस की महामारी में डूबी दुनिया को अनदेखा कर सैन्य विस्तार कर रहा है। ऐसे में चीन को संदेश देने के लिए क्वॉड देशों को मजबूत बनना होगा।

पाकिस्तान के कराची में बड़ा धमाका, 3 की मौत, 15 से अधिक घायल

मालाबार के लिए अमेरिका की सीनेट फॉरन रिलेशन्स कमिटी के सदस्य सीनेटर डेविड पर्डू ने अमेरिका में भारत के राजदूत टीएस संधू को लिखा, 'हम मालाबार अभ्यास मे ऑस्ट्रेलिया को औपचारिक न्योता देने के भारत के फैसले के पूरे समर्थन में हैं।' 

वहीँ, चीन ने इस बारे में जानकारी मिलने पर कहा कि सैन्य सहयोग, क्षेत्रीय शांति और स्थिरता के लिए 'अनुकूल' होना चाहिए। चीन की तरफ से कहा गया कि इस सैन्य अभ्यास में आस्ट्रेलिया हो हिस्सा बनाने का भारत का निर्णय ऐसे समय में आया है जब पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद के बीच चीन के साथ रिश्ता तनावपूर्ण हो गया है।

IMF ने किया खुलासा- पश्चिमी एशियाई देशों में डूबती अर्थव्यवस्था का मुख्य कारण कोरोना वायरस

बताते चले कि  1992 में मालाबार अभ्यास की शुरूआत हुई थी। तब भारतीय नौसेना और अमेरिकी नौसेना के बीच हिंद महासागर में द्विपक्षीय अभ्यास के रूप में इसे शुरू किया गया था। इसके बाद 2015 में जापान इस अभ्यास का स्थायी हिस्सेदार बना। 

2018 में यह अभ्यास फिलीपन सागर में गुआम तट के पास और 2019 में यह जापान तट के पास हुआ था।  इस अभ्यास से जुड़ने के लिए पिछले कुछ सालों से आस्ट्रेलिया लगातार अपनी दिलचस्पी दिखा रहा था जिसे भारत ने सहयोगपूर्ण तरीके से अपना लिया है।

comments

.
.
.
.
.