anil-sharmas-big-statement-refuses-to-vacate-government-bungalow

अनिल शर्मा का बड़ा बयान, सरकारी बंगले को खाली करने से किया इनकार

  • Updated on 5/22/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ऊर्जा मंत्री पद से त्यागपत्र देने वाले विधायक अनिल शर्मा ने अपना मंत्री आवास छोडऩे से इंकार कर दिया है। उनका कहना है कि जब तक सरकार एक विधायक के नाते शिमला में उनके लिए रहने की व्यवस्था नहीं करती है तब तक मंत्री के नाते मिली कोठी को छोड़ पाना संभव नहीं होगा। मंडी में अनिल शर्मा ने कहा कि सरकार यदि इनके रहने की व्यवस्था करती है तो वे मंत्री के नाते मिले मकान को छोड़ देंगे। 

उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में सरकार की तरफ  से उन्हें मकान खाली करने को लेकर कोई नोटिस नहीं मिला है। अनिल शर्मा ने कहा कि जब उन्होंने मंत्री पद से त्यागपत्र दिया था तो उस वक्त ही सभी सरकारी सुविधाओं को छोड़ दिया था। मंत्री के नाते सचिवालय में मिले कमरे, गाड़ी और अन्य सुविधाओं को भी उसी दिन सरकार के हवाले कर दिया था और जो सरकारी मकान मिला है वहां पर अभी उनका सामान है और उस सामान को तब तक शिफ्ट नहीं किया जा सकता, जब तक सरकार नई व्यवस्था नहीं करती है। उन्होंने कहा कि वह जल्द ही इस संदर्भ में विधानसभा अध्यक्ष से बात करेंगे, ताकि उनके रहने की व्यवस्था की जाए और ताकि मंत्री के नाते मिले मकान को खाली कर सकें।

Image result for anil sharma mla

बता दें कि अनिल शर्मा ने लोकसभा चुनावों के दौरान अपने मंत्रीपद से त्यागपत्र दे दिया था, लेकिन अभी तक मंत्री के नाते मिले सरकारी आवास को उन्होंने खाली नहीं किया है। इस संबंध में अब सरकार ने उन्हें मकान खाली करने को कहा है। पूर्व मंत्री अनिल शर्मा ने 12 अप्रैल को मंत्री पद से त्याग पत्र इसलिए दिया था क्योंकि उनके बेटे को कांग्रेस ने मंडी लोकसभा सीट से प्रत्याशी बनाया है। हालांकि अनिल शर्मा अब भी भाजपा विधायक हैं और उन्होंने भाजपा की सदस्यता से इस्तीफा नहीं दिया है लेकिन उनकी मुख्यमंत्री के खिलाफ बयानबाजी को भाजपा संगठन गंभीरता से ले रहा है और सरकार पर दबाव बना रहा है कि अनिल शर्मा से सारी सरकारी सुविधाएं छीनी जाएं। 

जिसने वीडियो बनाया है उसे कहें इसे सार्वजनिक करे : अनिल
सदर के विधायक अनिल शर्मा का कहना है कि एक कोई भाजपा बी.डी.सी. सदस्य ने मेरा वीडियो बनाया है जिसमें मैं एक घर में बात कर रहा हूं। मैं गांव के किसी व्यक्ति को पूछ रहा था कि गांव में सांसद निधि से कितना पैसा आया और कब-कब आया। जिसने वीडियो बनाया है उसे इसे सार्वजनिक करना चाहिए कि हमारे बीच आखिर बात क्या हुई है। मैंने कहीं कांग्रेस के लिए काम नहीं किया है और न कहीं रैली और बैठक में गया।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.