Wednesday, Feb 19, 2020
BJP Devendra Fadnavis said shiv sena Explain on the statement of Prithviraj Chavan

पृथ्वीराज चव्हाण के खुलासे के बाद BJP नाराज, कहा- स्पष्टीकरण दे शिवसेना

  • Updated on 1/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने कहा कि शिवसेना (Shiv Sena) को कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavan) के उस बयान पर स्पष्टीकरण देना चाहिए कि उसने 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections) के बाद राज्य में भाजपा (BJP) को सत्ता में आने से रोकने के लिए कांग्रेस (Congress) और राकांपा (NCP) के साथ गठबंधन में सरकार बनाने का प्रस्ताव रखा था।

पूर्व मंत्री व कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला के पिता का 88 साल की उम्र में निधन

शिवसेना का 'असली चेहरा' हुआ उजागर
फडणवीस के इस बयान पर निशाना साधते हुए शिवसेना की प्रवक्ता मनीषा कयांडे (Manisha Kayande) ने सोमवार रात कहा कि उनकी पार्टी ने कभी भी अपने नेताओं को लेकर 'जोड़तोड़' नहीं की है। विधानसभा में विपक्ष के नेता फडणवीस ने कहा कि चव्हाण का बयान बेहद चौंकाने वाला है और इससे उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के नेतृत्व वाली पार्टी का 'असली चेहरा' उजागर हुआ है। शिवसेना ने नवंबर में कांग्रेस और राकांपा के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाई।

दिल्ली चुनाव: AAP के युवा वॉलंटियर्स चुनाव प्रचार में भर रहे नया जोश! बनाई गई कई टीमें

चव्हाण के बयान पर स्पष्टीकरण दे शिवसेना
फडणवीस ने दिल्ली (Delhi) में मीडिया से कहा, "चव्हाण ने जो कहा वह बहुत ही आश्चर्यजनक है। उनके इस बयान को गंभीरता से लिया जाना चाहिए। इस खुलासे से शिवसेना का असली चेहरा सामने आया है।" फडणवीस ने कहा, "शिवसेना को चव्हाण के बयान पर स्पष्टीकरण देना चाहिए।"

दिल्ली चुनाव: BJP ने जारी की दूसरी सूची, केजरीवाल को टक्कर देंगे सुनील यादव

2014 में ही कांग्रेस के साथ सरकार बनाना चाहती थी शिवसेना
गौरतलब है कि महाराष्ट्र में करीब दो महीने पहले शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने वाली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने खुलासा किया है कि 2014 के विधानसभा चुनाव के बाद भी उद्धव ठाकरे की पार्टी शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने भाजपा को रोकने के लिए मिलकर सरकार बनाने का प्रस्ताव दिया था जिससे कांग्रेस ने तत्काल इनकार कर दिया था। चव्हाण ने रविवार को यह भी कहा कि शिवसेना के साथ हाथ मिलाने को लेकर इस बार भी पार्टी आलाकमान और अध्यक्ष सोनिया गांधी शुरू में तैयार नहीं थीं, लेकिन गहन विचार-विमर्श के बाद आगे बढ़ने और सरकार में शामिल होने का निर्णय लिया गया।

साईंबाबा के जन्मस्थान को लेकर हुए विवाद के चलते CM उद्धव ने बुलाई बैठक

नेताओं को लेकर जोड़तोड़ नहीं की- शिवसेना
चव्हाण ने कहा, ''यही स्थिति पांच साल पहले भी आई थी उस समय भी शिवसेना और राकांपा की तरफ से यह प्रस्ताव मेरे पास आया था कि हम तीनों मिलकर सरकार बनाते हैं और भाजपा को रोकते हैं।'' उन्होंने कहा, ''मैंने उस प्रस्ताव को तुरंत खारिज कर दिया था। मैंने कहा था कि हार-जीत राजनीति में सामान्य बात है। हम पहले भी हारे हैं और विपक्ष में बैठे हैं।'' चव्हाण के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कयांडे ने कहा, "शिवसेना ने जो किया खुले में किया। हमने अपनी पार्टी के नेताओं के साथ कभी जोड़तोड़ नहीं की।"

comments

.
.
.
.
.