Thursday, Sep 29, 2022
-->
even-after-corona-crisis-school-children-will-not-be-touched-by-studying-online-prsgnt

छात्रों के पास अब हमेशा उपलब्ध रह सकेगा ONLINE ऑप्शन! बस करनी होगी अब ये तैयारी...

  • Updated on 10/13/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना काल में भले ही स्कूल खोलने वाले हैं लेकिन अभी भी बच्चों के पास ऑनलाइन पढ़ने का ऑप्शन बाकी है और ये आगे भी जारी रहेगा। अभी छठवीं से बारहवीं तक के स्कूली बच्चों को उनके कोर्स का करीब 40% पार्ट ऑनलाइन ही पढ़ाया जाना है। इसके साथ ही स्कूलों के लिए तैयार किए जा रहे नए कोर्स को एनसीईआरटी इसी तरह से बनाने में लगी है। 

दरअसल, स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर ज्यादा जोर दिया जा रहा है क्योंकि इससे स्कूली बच्चों को दूसरी एक्टिविटीज़ से जुड़ने के लिए समय मिल सकेगा। यही वजह है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद स्कूलों के लिए नए पाठ्यक्रम का फ्रेमवर्क इस तरह से किया गया है कि बच्चों को ज्यादा से ज्यादा दूसरी एक्टिविटीज़ में जोड़ा जा सके।

कोरोना काल में शिक्षा मंत्रालय ने किया स्कूल खोलने का ऐलान, जारी किए दिशानिर्देश

इसके साथ ही ऑनलाइन पढ़ाई के लिए छात्रों को उनका नया सिलैबस और पाठ्य सामग्री को रोचक बनाने की कोशिश है। श्याद यही कारण है कि इस पर विशेषज्ञों को काम करने के लिए कहा है। यह इसलिए भी किया गया है क्योंकि पिछले छह महीनों में लॉकडाउन के दौरान की गई ऑनलाइन पढ़ाई करते हुए छात्रों ने फीडबैक दिया है।  जिसके अनुसार पाठ्य सामग्री को लेकर ही छात्रों ने शिकायत की थी। छात्रों ने कहा था कि वो समय पर उन्हें नहीं मिलती और न ही वो रोचक होती है।

साथ ही, मंत्रालय ने स्कूल खोलने के लिए दिशानिर्देश जारी किए। जिनमें राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से उनकी स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार स्वास्थ्य एवं सुरक्षा सावधानियों के आधार पर खुद की मानक परिचालन प्रक्रियाएं बनाने को कहा। 

DU Admission 2020: दो दिन पहले जारी हो सकती है पहली कटऑफ, दाखिला 12 अक्टूबर से

मंत्रालय ने 15 अक्टूबर से स्कूलों के क्रमिक तरीके से पुन: खुलने के लिए जारी दिशानिर्देशों में कहा कि स्कूलों को सभी क्षेत्रों, फर्नीचर, उपकरण, स्टेशनरी, पानी के टैंकों, रसोई घरों, कैन्टीन, शौचालयों, प्रयोगशालाओं, पुस्तकालयों की पूरी तरह सफाई करने और उन्हें संक्रमणमुक्त करने की व्यवस्था करनी चाहिए तथा स्कूल के भीतरी परिसर में हवा का प्रवाह सुनिश्चित करना चाहिए।

comments

.
.
.
.
.