Friday, Jul 30, 2021
-->
Every day 5 farmers will go on a hunger strike in villages against agricultural laws rkdsnt

कृषि कानूनों के खिलाफ गांवों में हर दिन अनशन करेंगे 5 किसान

  • Updated on 3/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लागू तीन विवादित कृषि कानूनों को वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी सहित विभिन्न मांगों को लेकर उत्तर प्रदेश किसान मजदूर मोर्चा गांवों में अनशन शुरू करेगा। इसके तहत प्रत्येक दिन गांव के पांच लोग अनशन करेंगे और नुक्कड़ सभा की जाएगी। 

 प्रियंका गांधी बोलीं- भाजपा ने असम में CAA लागू करने पर साध रखी है चुप्पी

मोर्चा के प्रवक्ता मुकुल त्यागी एडवोकेट ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा कि पिछले तीन माह से दिल्ली की सीमाओं पर डटे रहने के बावजूद कोई सफलता नहीं मिली, इसलिए आंदोलन के नए स्वरूप के तहत प्रत्येक गांव, किसान व मजदूर को इससे जोडऩे का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मोर्चे में शामिल 22 संगठनों के लोग सरकार को जगाने का काम करेंगे और बताएंगे कि ये कानून किसानों के खिलाफ है। 

पामेला ड्रग्स केस : भाजपा नेता राकेश सिंह का एक सहयोगी गिरफ्तार

मुकुल त्यागी ने कहा, ‘‘कई किसान व मजदूर कानून के विरोध में चल रहे धरने में नहीं जा सकते हैं, इसलिए अब हर गांव में प्रतिदिन पांच लोग सुबह नौ से शाम पांच बजे तक अनशन करेंगे। गांवों में नुक्कड़ सभा कर कानून के नुकसान के बारे में बताया जाएगा।’’ 

हाई कोर्ट ने दी वरवर राव को रिहाई के लिए नकदी मुचलका भरने की इजाजत 

उन्होंने कहा, ‘‘अनशन पर बैठने वाले किसान दो-दो मिनट का अपना परिचय सहित वक्तव्य प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को सोशल मीडिया के माध्यम से भेंजेंगे। सप्ताह में एक दिन किसानों-गांव से अनाज आदि एकत्र कर भंडारा किया जाएगा।’’ उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के 22 किसान संगठनों ने मिलकर उत्तर प्रदेश किसान मजदूर मोर्चा का गठन किया गया है जिसकी घोषणा 23 फरवरी को प्रेस क्लब दिल्ली में की गई थी।

अमरिंदर सिंह के मुख्य सलाहकार बने चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 


 

comments

.
.
.
.
.