Monday, Oct 25, 2021
-->
Failed twice in mega vaccination, this time trying to pass

मेगा वैक्सीनेशन में दो बार फेल, इस बार पास होने का प्रयास

  • Updated on 10/14/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। जिले में एक बार फिर से सोमवार को मेगा वैक्सीनेशन अभियान चलाया जाएगा। इस बार भी स्वास्थ्य विभाग का 45 हजार से अधिक लोगों को टीका लगाने का प्रयास होगा। इसके साथ ही विभाग जिले में 10 लाख लोगों को दोनों डोज लगाने का आंकड़ा भी छू सकता है। हालंाकि स्वास्थ्य विभाग पिछले दो बार चले मेगा वैक्सीनेशन में लक्ष्य भी हासिल नहीं कर सका था। इस बार फिर लक्ष्य को पार करने के प्रयास में जुटा है। 

मेगा वैक्सीनेशन के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग बड़ी संख्या में लोगों को टीका लगा सका है। एक ही दिन में एक लाख से अधिक लोगों को भी टीका लगाया जा चुका है। अब तक आठ मेगा वैक्सीनेशन अभियान चलाए जा चुके है। कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से पूर्व टीकाकरण को और गति देने के लिए अब सोमवार को 9वां मेगा वैक्सीनेशन चलाया जाएगा। इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग तैयारी में जुट गया है। जिले में अब तक 30 लाख लोगों को टीका लगाया जा चुका है, इसमें से 21 लाख को पहली डोज लग चुकी है। जबकि 9 लाख लोग ऐसे है, जिन्हें दोनों डोज लगी। अभी मेगा वैक्सीनेशन से पूर्व तीन दिन शेष है, ऐसे में यदि दो दिन में 40 से 50 हजार लोगों को दूसरी डोज लग जाती है। तब मेगा वैक्सीनेशन में दोनों डोज वालों का 10 लाख का आंकड़ा भी पार किया जा सकता है। इस पर भी विभाग की नजर होगी। 

दो बार से नहीं हासिल कर पाया लक्ष्य
जिले में संचालित होने वाले मेगा वैक्सीनेशन दो बार से सामान्य होकर रह गया है। शासन स्तर से पहले ही लक्ष्य को छोटा कर विभाग को पूरा करने को दिया गया है, वह भी पूरा नहीं हो पा रहा है। एक अक्तूबर को दिया गया 45 हजार का लक्ष्य भी हासिल नहीं कर सका था, इसके बाद 8 अक्तूबर को चले मेगा वैक्सीनेशन में भी 45 हजार के लक्ष्य के सापेक्ष केवल 30584 को टीका लगा सका। 

लक्ष्य से अधिक का रहेगा प्रयास 
वैक्सीनेशन के नोडल अधिकारी डॉ. जेपी मथुरिया का कहना है कि मेगा वैक्सीनेशन में अधिक से अधिक लोगों को टीका लगाने का प्रयास रहता है। इस बार भी लक्ष्य से अधिक का प्रयास होगा। शासन से जो भी लक्ष्य मिलेगा, उसी के अनुरूप केंद्र निर्धारित कर टीकाकरण होगा। लक्ष्य को लेकर शासन से मिलने वाले निर्देशों का इंतजार है। 
 

comments

.
.
.
.
.