Friday, Dec 03, 2021
-->
Farmers organization wrote a letter to Modi government Farm Law sohsnt

किसान संगठन ने मोदी, तोमर को लिखा पत्र, कहा- किसान आंदोलन किसी भी राजनीतिक दल से संबद्ध नहीं

  • Updated on 12/20/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र की मोदी सरकार (Modi Govt) द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का आंदोलन आज 24वें दिन भी लगातार जारी है। सरकार और किसानों के बीच इस मुद्दे पर अब तक पांच दौर का वार्ता हो चुकी है, लेकिन समस्या की जस की तस बनी हुई है। सरकार का आरोप है कि किसानों के विपक्षी पार्टियां गुमराह कर रही हैं। ऐसे में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर अपनी बात रखी है।

उर्मिला मातोंडकर ने कहा- राजनीति में महिलाओं के लिये जगह बनाना अभी-भी मुश्किल

पीएम मोदी और तोमर को लिखे पत्र
अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने पत्र में कहा कि वर्तमान में चल रहे किसानों के विरोध प्रदर्शन किसी भी राजनीतिक दल से संबद्ध नहीं हैं। मोदी और तोमर को हिंदी में अलग-अलग लिखे गए पत्रों में समिति ने कहा कि सरकार की यह गलतफहमी है कि तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन को विपक्षी दलों द्वारा प्रायोजित किया जा रहा है।

अमित शाह ने जय श्रीराम के नारे के साथ लिया TMC को उखाड़ने का प्रण, शुवेंदु हुए बीजेपी में शामिल

बीते 23 दिनों से जारी है किसान आंदोलन
किसान संगठन की तरफ से ये पत्र तब लिखे गए जब एक दिन पहले प्रधानमंत्री ने विपक्षी दलों पर किसानों को तीन कृषि कानूनों को लेकर गुमराह करने का आरोप लगाया था। समिति उन लगभग 40 किसान संगठनों में से एक है, जो पिछले 23 दिन से दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

BJP में शामिल हुए सुवेंदु, अमित शाह की उपस्थिति में थामा भगवा झंडा

पत्र में कही ये बात
प्रधानमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा, 'सच्चाई यह है कि किसानों के आंदोलन ने राजनीतिक दलों को अपने विचार बदलने के लिए मजबूर किया है और आपके (प्रधानमंत्री) आरोप कि राजनीतिक दल इसे (विरोध प्रदर्शन) पोषित कर रहे हैं, वह गलत है।’’ समिति ने पत्र में कहा, 'विरोध करने वाली किसी भी किसान यूनियन और समूह की कोई भी मांग किसी राजनीतिक दल से संबद्ध नहीं है।'

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.