Thursday, May 13, 2021
-->
Farmers besiege BJP MP in Haryana damaged glass of car rkdsnt

हरियाणा में किसानों ने भाजपा सांसद का घेराव किया, कार के शीशे को क्षतिग्रस्त किया

  • Updated on 4/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हरियाणा में प्रदर्शनकारी किसानों ने मंगलवार को सत्तारूढ़ भाजपा के एक सांसद का घेराव किया और उनकी कार के शीशे को चकनाचूर कर दिया।      कुरुक्षेत्र से करीब 20 किलोमीटर दूर शाहबाद मरकंडा में जब प्रदर्शनकारियों ने गाड़ी को निशाना बनाया उस वक्त कुरुक्षेत्र के सांसद नायब सिंह सैनी एसयूवी में नहीं थे। 

राफेल सौदे में भ्रष्ट्राचार के आरोपों को लेकर माकपा ने खोला मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा

इसके बाद प्रदर्शनकारी भाजपा के एक कार्यकर्ता के घर के बाहर एकत्र हो गए जहां पर सैनी चाय पी रहे थे। सैनी के मुताबिक जब उन्होंने वहां से निकलने की कोशिश की तो 50 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों ने उनका घेराव किया। प्रदर्शनकारियों में से कुछ उनके वाहन पर चढ़ गए और लाठियों से गाड़ी के शीशे को तोड़ दिया।      सैनी ने कहा कि पुलिस को उनके वाहन को इलाके से निकालने में काफी मशक्कत करनी पड़ी।     

रिलायंस जियो ने स्पेक्ट्रम खरीदने को लेकर एयरटेल से किया करार

हरियाणा में किसान सत्तारूढ़ भाजपा-जजपा गठबंधन के नेताओं के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। कुरुक्षेत्र की घटना भी उसी कड़ी में हुई। सांसद ने कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों के खिलाफ हिंसा में शामिल होने वाले किसान नहीं हो सकते। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग किसानों को बदनाम कर रहे हैं। घटना के बाद इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस की तैनाती की गयी। 

बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में ठाकरे सरकार

कुरुक्षेत्र के पुलिस अधीक्षक हिमांशु गर्ग ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है और हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करेगी।      किसानों ने शनिवार को रोहतक में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ प्रदर्शन किया था। जिसके बाद प्रशासन को मुख्यमंत्री के हेलिकॉप्टर को दूसरी जगह उतारना पड़ा था। 

पीएम मोदी ने ममता की ‘गालियों’ को बनाया बंगाल में चुनावी हथियार 

किसानों ने पिछले सप्ताह हिसार हवाई अड्डे के बाहर उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के खिलाफ प्रदर्शन किया था। किसान नेताओं ने कहा है कि वे भाजपा और उसके सहयोगी दलों के नेताओं का ‘‘शांतिपूर्ण तरीके से सामाजिक बहिष्कार’’ करना जारी रखेंगे। किसान केंद्र के तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं।   

असम में एक बूथ पर वोटर सूची में सिर्फ 90 नाम, वोट पड़े 171, चुनाव आयोग सकते में

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

  •  
comments

.
.
.
.
.