Monday, May 23, 2022
-->
If not PUC, now challan will also be deducted at petrol pump

पीयूसी नहीं तो अब पेट्राेल पंप पर भी कटेगा चालान

  • Updated on 11/18/2021

नई दिल्ली। दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए परिवहन विभाग ने बुधवार से प्रदूषण फैलाने वाली गाड़ियों के खिलाफ अभियान तेज कर दिया है। प्रदूषण को रोकने की मुहिम के तहत पेट्रोल पंपों पर प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र यानी पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफेकेट (पीयूसी) की जांच की जा रही है। पेट्रोल पंपों पर पीयूसी के बिना पेट्रोल भरवाते समय अब 10 हजार रुपए का चालान कट रहा है। इसके लिए परिवहन विभाग ने पेट्रोल पंपों पर सिविल डिफेंस वालंटियर की टीमें तैनात की हैं। 


अभी तक परिवहन विभाग की टीमें पेट्रोल पंप पर गाड़ी का नंबर नोट करके डेटा बेस से चेक करने के बाद गाड़ी का चालान भेजती थीं, लेकिन अब पेट्रोल पंप पर ही ऑनलाइन चेक किया जा रहा है कि गाड़ी का पीयूसी है या नहीं? अगर नहीं है तो ऑन द स्पॉट चालान थमाया जा रहा है।


दिल्ली में करीब 400 पेट्रोल पंप हैं। इसमें से विभिन्न पेट्रोप पंपों पर परिवहन विभाग की 40 टीमें निरीक्षण कर रही हैं। वहीं, अन्य पेट्रोल पंपों पर हर डीएम की 30-30 टीमें लगाई गई हैं। जिनमें सिविल डिफेंस के लोगों की मदद ली जा रही है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने दावा किया कि अब सभी पेट्रोप पंपों पर टीमें तैनात कर दी गई हैं। परिवहन विभाग के अनुसार दिल्ली में 18 लाख वाहनों के पास पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं हैं। इसमें से करीब 14 लाख वाहन मालिकों को जागरूक करने के लिए नोटिस भेजे जा चुके हैं। पीयूसीसी न होने पर 10 हजार का चालान या छह माह तक की सजा है। मगर अभी भी बहुत से लोगों ने पीयूसी नहीं बनवाए हैं। हालांकि यह संख्या पहले से कम हुई है। अक्तूबर माह में 805249 पीयूसी बने हैं। वहीं, बगैर पीयूसी वालों के 7357 लोगों के चालान काटे गए। परिवहन विभाग ने अक्तूबर में कुल 91568 वाहनों की जांच की है। वहीं,नवंबर में लगातार त्योहार पड़ जाने के बावजूद 17 नवंबर तक 45 हजार वाहनों की जांच की गई है। इस दौरान तीन हजार चालान काटे गए हैं और अब तक दो लाख से अधिक पीयूसीसी बन चुके हैं। एक नवंबर को 20593  पीयूसी बने हैैं। वहीं, दीवाली के दिन भी 7765 पीयूसीसी बने हैं। जबकि 8 नवंबर को एक दिन में  22708 पीयूसीसी बने हैं। वहीं, 16 नवंबर को एक दिन में सबसे अधिक 24892 पीयूसी बने हैं।

comments

.
.
.
.
.