Tuesday, Jun 22, 2021
-->
india-must-not-let-border-scuffle-fray-economic-relations-with-china-global-times-prsgnt

'बायकॉट चाइना' मूवमेंट से घबराया चीन, इस तरह देने लगा है धमकी, पढ़े रिपोर्ट

  • Updated on 6/22/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में बढ़े तनाव के बाद देशभर में इसका गुस्सा देखा जा सकता है। पूरा देश चीन के बहिष्कार की मांग करने लगा है और चीनी सामानों के इस्तेमाल करने पर रोक लगाए जाने की मांग की जा रही है।

इसी बीच चीन को भी जब भारत की तरफ से लोगों के रोष और नाराजगी का पता चला तो चीनी सरकार घबरा गई। चीनी सरकार इस बात से काफी टेंशन में आ गई है कि भारत जो चीन से 1000 से ज्यादा सामान और कई जरूरी वस्तुओं को इम्पोर्ट करता है वो चीनी बहिष्कार के बाद खत्म हो जाएगा।

ट्रंप ने कहा 'कुंग फ्लू' और चीन के खिलाफ शुरू हो गया ट्विटर पर नया ट्रेंड, जानिए क्या है मामला

चीनी सरकार की धमकी
ऐसे में चीनी सरकार की तरफ से चीन के सरकारी मीडिया अखबार ग्लोबल टाइम्स ने भारत को धमकी दी है। इस बारे में ग्लोबल टाइम्स में एक लेख पब्लिश हुआ है जिसमें भारत पर चीन ने आरोप लगाए हैं।

ग्लोबल टाइम्स ने आरोप लगाया है कि कुछ लोग भारतीयों को चीन के खिलाफ भड़का रहे हैं। ये लोग झूठे राष्ट्रवाद के नाम पर लोगों को मूर्ख बना रहे हैं। इस लेख से ये साफ़ पता लगता है कि चीन भारत द्वारा 'बायकॉट चाइना' मुहीम से घबरा गया है इसलिए इस तरह के आरोप और धमकी दे रहा है।

गलवान के बाद भारत ने चीन के खिलाफ उठाए ये सख्त कदम, बौखला जाएगा अब चीन

बहिष्कार से टूटेगी कमर
ग्लोबल टाइम्स में छपे आर्टिकल में इंडियन आर्मी के रिटायर अधिकारी रंजित सिंह का नाम लिया गया है। लिखा है कि कुछ लोग समझते है कि चीनी सामान के बहिष्कार से चीन की कमर टूट जाएगी, तो यह गलत सोच है। जबकि भारत को चीन जैसे साथ देने वाले की जरूरत है जो आर्थिक और सामरिक रूप से साथ आ सके।

क्या पाकिस्तान के करीबी जनरल किलिंग के इशारों पर हुआ लद्दाख में सैनिकों पर हमला?

भारतीय न बने मूर्ख
चीन ने यहां ये भी कहा है कि दूसरों के बहकावे में आ कर भारत के लोग मूर्ख न बने और चीनी सामान का विरोध न करें। चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक पार्टनर है और भारत के विकास में चीन का हाथ है क्योंकि चीन का भारत में बड़ा निवेश हिस्सा है।

चीन ने दावा किया कि भारत के 30 बड़े स्टार्टअप में से 18 में चीन ने ही अपना पैसा लगाया है यानी निवेश किया है। इसके अलावा भारत चीन से घरेलू सामन, टीवी, माइक्रोवेव, एयरकंडीशनर, मोबाइल फोन, लैपटॉप जैसी सभी ज़रूरी चीजें काफी सस्ते में इल जाती है,  ऐसे में अगर भारत कहीं और से ये सब लेना चाहता है तो उसकी भारत को बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है।

अगर जंग हुई तो चीन नहीं भारत का पलड़ा रहेगा भारी, जानिए कितनी है दोनों देशों की ताकत

पड़ोस में दुश्मन से अच्छा दोस्त
चीन ने इस लेख में ये भी दावा किया है कि भारत में मेड इन इंडिया इक्विपमेंट के जरिए 4G इंटरनेट उपलब्ध कराने की बात झूठी है क्योंकि भारत में एक भी ऐसा टेलिकॉम प्रदाता नहीं है जो कि 3G या 4G इंटरनेट के लिए जरूरी इक्विपमेंट्स को बनाता हो।

चीन ने भारत को सलाह दी है कि भारत के पड़ोसी पाकिस्तान से भी रिश्ते ठीक नहीं हैं और अब चीन से भी बिगाड़ ली है ऐसे में भारत को ये तनाव उसे काफी भारी पड़ सकता है। चीन ने धमकी देते हुए कहा है कि पड़ोस में दुश्मन के रहने से अच्छा होता है कि कोई दोस्त रहे।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

comments

.
.
.
.
.