Friday, May 07, 2021
-->
Indian Foreign Secretary said Strong ties between Nepal and India sohsnt

नेपाल दौरे पर गए भारतीय विदेश सचिव ने कहा- दोनों देशों के बीच है 'मजबूत संबंध'

  • Updated on 11/27/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत और नेपाल (Nepal) के बीच सदियों पुराने रिश्ते एक बार फिर चीनी की चाल पर भारी पड़ते नजर आने लगे हैं। भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला (Harshvardhan Shringla) अपने दो दिवसीय दौरे पर नेपाल गए हुए हैं। इस दौरान उन्होंने नेपाल के विदेश सचिव भरत राज पौडयाल से मुलाकात की। श्रृंगला ने कहा कि भारत और नेपाल के संबंध बेहद मजबूत हैं। उनका उद्देश्य दोनों देशों के संबंधों को और मजबूत करना है। उन्होंने बताया कि वे यहां पहले आना चाहते थे, लेकिन कोरोना महामारी के कारण ये संभन नहीं हो सका।

पाक सेना ने राजौरी में फिर तोड़ा सीज़फायर, LoC के पार से फायरिंग में दो जवान शहीद

विदेश सचिवों के बीच हुई ये बैठक काफी सफल

दोनों देशों के बीच पैदा हुए मदभेदों को कम करने में विदेश सचिवों के बीच हुई ये बैठक काफी सफल साबित हुई। इस बीच, काठमांडू में भारतीय दूतावास ने ट्वीट कर जानकारी देते हुए बताया कि दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच की द्विपक्षीय वार्ता काफी सफल रही है। इसके साथ ही बताया गया कि दोनों देश द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने की ओर अग्रसर हैं। इसके अलावा आपसी हितों के मुद्दों पर भी चर्चा की गई। इसके साथ ही स्वास्थ्य संकट से मुकाबला करने के लिए द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर बृहद् सहयोग की आवश्यकता पर बल दिया।

एशिया में सबसे रिश्वतखोर हैं भारतीय, भ्रष्टाचार में भी तोड़ दिया है रिकॉर्ड, पढ़े रिपोर्ट

हर्षवर्द्धन श्रृंगला ने कही ये बात
दरअसल, बीते बुधवार को विदेश सचिव हर्षवर्द्धन श्रृंगला ने कहा, कोरोना महामारी अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था में बड़ी बाधा है और भारत तथा नेपाल इसके विपरीत असर का अपवाद नहीं हैं। कोविड-19 महामारी से निपटने में हिमालयी देश को भारत की तरफ से जारी सहयोग के तहत उसे रेमडेसिविर सौंपी गयी। दोनों देशों के बीच सीमा विवाद को लेकर द्विपक्षीय संबंधों में आई कड़वाहट के बाद नेपाल के विदेश सचिव भरत राज पौडयाल के निमंत्रण पर श्रृंगला नेपाल के पहले दौरे पर पहुंचे हैं।

करियर के पीक पर नशे का शिकार हो गए थे माराडोना, कहा था- मैं ड्रग एडिक्ट था, हूं और रहूंगा

विदेश सचिव हर्षवर्द्धन श्रृंगला ने कहा, 'नेपाल सरकार और विदेश सचिव को गर्मजोशी से किये गए इस अभिवादन के लिए में उनको धन्यवाद देना चाहता हूं। उन्होंने कहा, मेरी पहली मीटिंग नेपाल के विदेश सचिव से होगी और उसके बाद मैं विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली से मुलाकात करूंगा।' 

कोरोना महामारी पर लग सकती थी लगाम अगर 70% लोगों ने पहना होता मास्क- शोध

कोविड-19 अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था में बड़ी बाधा
उन्होंने कहा, 'कोविड-19 अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था में बड़ी बाधा है। दूसरे विश्व युद्ध के बाद दुनिया ने इस तरह का संकट नहीं देखा था। हमारे दोनों देश कोविड-19 के विपरीत असर का अपवाद नहीं हैं। बता दें कि नेपाल में कोरोना वायरस का तेजी से बढ़ता जा रहा है। यहां सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 61,397,419 हो गई है। जबकि सक्रिय मामले 17,481,803 हैं। नेपाल में कोरोना से अब तक 42,476,031 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि 1,439,585 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई है।

comments

.
.
.
.
.