Saturday, May 26, 2018

मदर्स डे: नहीं की शादी, फिर भी 450 बच्चों की 'मां' हैं जसवीर कौर

  • Updated on 5/13/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब के लुधियाना की जसवीर कौर अपने आप में एक मिसाल है। उन्होंने अनाथ बच्चों को मां का प्यार देने के लिए अपनी पूरी जिंदगी कुर्बान कर दी। जसवीर कौर ने शादी नहीं की लेकिन वो आज 450 बच्चों की 'मां' हैं। एक बच्चे के जीवन में मां की कमी बखुबी समझने वाली जसवीर आज दुनिया भर ​की महिलाओं के लिए मिसाल बन गई है।

मदर्स डे के मौके पर आप सभी ने कई मां की क​हानियां सुनी होगी लेकिन जसवीर कौर की कहानी सबसे अलग है। उन्होंने 450 बच्चों को अपनाया और उन्हें एक मां का प्यार दे रही हैं। इन बच्चों से उनका खून का रिश्ता नहीं है फिर भी ये मासूम बच्चे जसवीर को मां से भी बढ़ कर मानते है। इन बच्चों का जसवीर कौर से उतना ​ही लगाव है जितना एक बच्चे का अपनी मां से होता है।

अफगानिस्तान में बड़ा हमला,6 लोगों की मौत, 20 घायल

जसवीर कौर ने भी इन बच्चों को एक मां का प्यार देने में कोई कमी नहीं की यहां तक की इन बच्चों के नाम उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी कर दी और खुद शादी नहीं की। जसवीर पिछले 15 साल से स्वामी गंगानंद भुइयरवाला बाल घर चला रही हैं, इस बाल घर में 450 अनाथ बच्चे रहते हैं। जसवीर इन बच्चों को अपने बच्चों जैसा ही प्यार करती है।

जसवीर इन सभी अनाथ बच्चों के साथ ही रहती ​हैं, उन्हें खाना खिलाना, पालना, कहानी सुनाना, देख भाल करना और एक मां की तरह उनकी हर बात सुनती है। ऐसे में जब इन बच्चों का साथ उनके अपने माता-पिता छोड़ देते हैं उस समय जसवीर इन बच्चों के जीवन में मां की कमी को पूरा करती हैं। जसवीर की इस मुहिम की हर तरफ तारीफ हो रही है।

मदर्स डे पर पीएम मोदी का खास तोहफा, जीतेंगे तो मिलेंगे 2000 रुपए

जसवीर कौर ने शुरू से ही शादी ना कर के अपना पूरा जीवन बिन माता-पिता के ​बच्चों के नाम करने का फैसला कर लिया था। जसवीर ने जब खुद अपने पैरंट्स को ये बात बताई तो वो शॉक्ड र​ह गऐ थे। जसवीर ने बताया कि, जब मैंने अपने माता-पिता को बताया की मैं शादी नहीं करना चाहती हूं और बालघर खोल कर अनाथ बच्चों को पालना चाहती हूं, तो उनकी यह बातें सुन कर वो अचंभित रह गऐ थे।

हालांकि आज जसवीर कौर के पैरंट्स को अपनी बेटी पर गर्व होगा कि उन्होंने इतने सारे बच्चों को मां का प्यार दिया और उनकी देख भाल कर रही हैं। 2003 से जसवीर ने अपनी ​इस मुहिम की शुरुआत की, इसी वर्ष उन्होंने बालघर का अनावरण किया था। उनके बालघर में इस समय हर उम्र के बच्चे हैं जो अपने माता-पिता को खो चुके हैं। जसवीर का कहना है कि वो समाज के एक सामने एक उदाहरण पेश करना चाहती हैं जिससे देश में कोई भी बच्चा अनाथ ना रहे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.