Tuesday, Oct 04, 2022
-->
Kejriwal spreading different narrative to gain sympathy in elections: BJP

केजरीवाल चुनाव में सहानुभूति हासिल करने के लिए अलग ही नैरेटिव फैला रहे हैं:भाजपा

  • Updated on 6/3/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रदेश भाजपा ने सीधेतौर पर आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कोई भी मंत्री गिफ्तार होता है तो वह खुद को ईमानदार बताते हुए अलग ही नैरेटिव फैलाने लगते हैं।
 प्रेस वार्ता में प्रदेश उपाध्यक्ष राजन तिवारी, मीडिया रिलेशन प्रमुख हरीश खुराना एवं सह प्रभारी हरिहर रघुवंशी, प्रवक्ता विक्रम मित्तल ने कहा कि  मंत्री सत्येंद्र जैन के जेल जाने के बाद भी केजरीवाल ने उन्हें अभी तक नहीं हटाया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को भी ईडी गिरफ्तार करेगी इस बात की जानकारी उन्हें गोपनीय सूत्रों से पता चली है। भाजपा पदाधिकारियों ने कहा कि दरअसल इस तरह का नैरेटिव फैलाकर केजरीवाल हिमाचल और गुजरात में होने वाले चुनाव में सहानुभूति बटोरना चाहते हैं। 

Review: डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी के निर्देशन का कमाल, ‘सम्राट पृथ्वीराज’ के रूप में छाए अक्षय कुमार 

राजन, हरीश ने कहा कि जब भी केजरीवाल के कोई मंत्री गिफ्तार होते हैं तो वह खुद को ईमानदार बताने लगते हैं। उन्होंने कहा कि मंत्री सत्येन्द्र जैन के जेल जाते ही उनके मंत्रालय शिफ्ट कर दिए गए, लेकिन उन्हें अभी तक मंत्री पद से हटाया नहीं गया और अब डेढ़ दर्जन मंत्रालय मनीष सिसोदिया के पास है।उन्होंने कहा कि साल 2019 में की गई शिकायत को लेकर एंटी करप्शन ब्रांच ने भाजपा से प्रमाण मांगे हैं क्योंकि वह इस पर कार्रवाई करने जा रहे हैं। लेकिन इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने जिस बौखलाहट के साथ अपनी बातें कही वह बताता है कि सिर्फ दाल में कुछ काला ही नहीं बल्कि पूरी दाल ही काली है।

यह शिकायत 3 साल पहले की है 

खुराना ने कहा कि केजरीवाल बोल रहे हैं कि हिमाचल में चुनाव होने के कारण मनीष सिसोदिया को फंसाया जा रहा है जबकि स"ााई यह है कि यह शिकायत 3 साल पहले की है। उन्होंने सवाल किया कि आखिर केजरीवाल ने 2015 में 201 कमरे का बजट 28.95 करोड़ रुपये तय किया लेकिन 2019 में 54 करोड़ कैसे कर दिया। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार 201 कमरों को साल 2016 में बनाकर तैयार करने की जगह अभी तक नहीं बना पाई है।

comments

.
.
.
.
.